YRKKH 26th October Written Update 
YRKKH 26th October Written Update

YRKKH 26th October Written Update | Yeh Rishta Kya Kahlata Hai 26th October written update | Yeh Rishta Kya Kahlata Hai 26th October 2021 full episode written update

YRKKH 26th October Written Update | Yeh Rishta Kya Kahlata Hai 26th October written update | Yeh Rishta Kya Kahlata Hai 26th October 2021 full episode written update | Yeh Rishta Kya Kahlata Hai Written Update | Yeh Rishta Kya Kahlata Hai Upcoming Twist

Yeh Rishta Kya Kahlata Hai Watch On Hotstar

YRKKH 26th October Written Update  ये रिश्ता क्या कहलाता है के आज के एपिसोड में आप सभी देखेंगे कि सीरत गाड़ी में बैठकर मंदिर जा रही होती है और अपने और कार्तिक के साथ बिताए हुए शुरू से लेकर अभी तक के पलों को याद करके बहुत ज्यादा रोती है कार्तिक की तस्वीर देखकर सीरत बहुत ज्यादा इमोशनल हो जाती है और बस अपने और कार्तिक के बारे में ही सोच जा रही होती है वही घर में स्वर्णा माता रानी के सामने दिया जलाने की कोशिश करती है लेकिन स्वर्णा से दिया नहीं जलता जिससे कि स्वर्ण बहुत ज्यादा परेशान हो जाती है

और कहती है आज सुबह से सब गलत हो रहा है पता नहीं अब दिया क्यों नहीं चल रहा मुझसे इतने में ही सुहासिनी आती है और स्वर्णा के हाथ से माचिस लेकर माता रानी के सामने दिया जलाती है स्वर्णा कहती है पता नहीं माझी मुझे कुछ भी अच्छा नहीं लग रहा है कार्तिक को अगर कुछ हो गया तो तभी सुहासिनी स्वर्णा को समझाती है कि तुम चिंता मत करो किट्टू को कुछ नहीं होने देंगे हम सभी मिलकर माता रानी से प्रार्थना करेंगे तभी वहां पर मनीष और अखिलेश आते हैं

सुरेखा और गायु उनसे पूछती है क्या हुआ कार्तिक का फोन लगा कुछ बात हुई उनसे आपकी एयरपोर्ट पर कुछ बात हुई लेकिन मनीष और अखिलेश बताते हैं कि हमारी कोई कांटेक्ट नहीं हो पा रही है उन लोगों से जिसे सुनकर स्वर्णा और ज्यादा परेशान हो जाती है और कहती है कहीं मेरे कार्तिक को कुछ हो गया तो तभी सुरेखा कहती है कुछ नहीं होगा दीदी आप शुभ शुभ बोलिए हमारे कार्तिक को कुछ नहीं होगा आप देखिएगा वो हंसता खेलता घर आएगा । इतने में ही अक्षरा और आरोही उन लोगों की बातें सुन लेती है और उनके पैरों तले जमीन खिसक जाता है।

उनके हाथ से वेलकम बोर्ड गिर जाता है वहीं दूसरी ओर जैसे ही सिर्फ मंदिर के पास पहुंचती है अचानक से बहुत ज्यादा आंधी और तूफान आ जाता है जिसे देखकर सीरत घबरा जाती है और कहती है ये अचानक से बिन मौसम आंधी तूफान कैसे आ गया। लेकिन सीरत हार नहीं मानती और कैसे भी करके मंदिर की सीढ़ियों पर चढ़ने की कोशिश करती है और कहते हैं मुझे कार्तिक के लिए प्रार्थना करने के लिए माता रानी के पास जाना ही होगा वही घर में अक्षय और आरोही पूछते हैं कि

क्या हुआ मेरे पापा को तभी मनीष उन लोगों को समझाते हैं कि तुम्हारे पापा बहुत स्ट्रॉन्ग है और तुम मेरी स्ट्रांग बच्ची हो तुम दोनों को एकदम स्ट्रांग रहना है तुम दोनों बिल्कुल भी टेंशन मत लो तुम्हारे पापा ठीक है और वह जल्दी ही घर आएंगे तभी अक्षरा कहती है प्रॉमिस तभी मनीष कहते हैं मैं आपसे प्रॉमिस करता हूं वही सुहासिनी कहती है हां तुम्हारे बड़े पापा बिल्कुल ठीक कह रहे हैं तुम देखना तुम्हारे पापा जल्दी आएंगे और तुम दोनों के हाथ से कचोरी खाएंगे। सुरेखा भी उन दोनों को बताती है कि

तुम्हारी मम्मा तुम्हारे पापा के लिए प्रार्थना करने के लिए मंदिर गई है देखना भगवान जी तुम्हारी मम्मा का जरूर सुनेंगे और तुम्हारे पापा जल्दी ही घर वापस आ जाएंगे तभी अक्षु और आरोही भी मंदिर जाने की जिद करने लगती हैं लेकिन स्वर्णा और सुरेखा अक्षु और आरोही से कहती है कि तुम अभी मंदिर मत जाओ तुम यही घर पर रहकर भगवान से प्रार्थना करो और कहते हैं ना भगवान बच्चों की जल्दी सुन लेते हैं तो बस तुम लोग यही पर रह कर प्रार्थना करो। वही सीरत मंदिर पहुंचती है

और भगवान से कहती है आपको आपके भक्तों की भक्ति का वास्ता आप मेरे कार्तिक के साथ कुछ नहीं होने दे सकती हैं मेरे कार्तिक को आपको मेरे पास भेजना ही पड़ेगा इतने में ही सीरत को किसी का फोन आता है सिर्फ फोन देख कर मुस्कुराने लगती है वही सारे गोइंका परिवार मिलकर भगवान के सामने कार्तिक के लिए प्रार्थना करते हैं तभी आरोही अपने मन में धीरे से कहती है कि पापा हमसे हमेशा कहा करते हैं कि अगर मंदिर जाकर भगवान से सच्चे मन से कुछ मांगू तो भगवान जरूर पूरा करते हैं मैं भी पापा के लिए मंदिर जाकर भगवान से प्रार्थना करूंगी

और इतना कहकर धीरे से आरोही वहां से निकल जाती है तभी अक्षरा देखती है कि आरोही वहां पर नहीं है और अक्षरा भी आरोही के पीछे पीछे जाती है और आरोही से पूछती है आरोही तुम कहां जा रही हो तभी आर्मी कहती है तुम मेरे पीछे पीछे मत आओ मैं कहीं भी जाऊं तभी अक्षरा कहती है मैं तुम्हें ऐसे अकेले जाने नहीं दूंगी तुम जा कहां रही हो तभी आरोही कहती है मैं मंदिर जा रही हूं और वैसे भी तुम मेरे पीछे मत आना और तुम घर में भी जाकर सबको बता दोगी ना तो बता दो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता अक्षरा कहती है मैं किसी को नहीं बताऊंगी

लेकिन मैं तुम्हें अकेले भी नहीं जाने दूंगी क्योंकि मौसम इतना खराब है इतनी आंधी तूफान चल रही है लेकिन आरोही कहती है तुम्हें मेरे पीछे आने की कोई जरूरत नहीं है मैं खुद जा सकती हूं और इतना कहकर आरोही मंदिर की तरह भागती है अक्षरा भी आरोही के पीछे पीछे भागती है। वहीं दूसरी ओर सिरत देखती है कि उसे कार्तिक का फोन आया रहता है लेकिन सिरत फोन उठाती है पर उसे कार्तिक का आवाज नहीं आता है तभी सीरत कहती है कार्तिक का फोन आया है इसका मतलब ये है कि

कार्तिक ठीक है या तो उनकी फ्लाइट मिस हो गई है या फिर कहीं लैंड हो गई है और उसके बाद सीरत को कार्तिक का मैसेज आता है कि मौसम थोड़ा सा खराब हो गया था इसीलिए मैं थोड़ा घबरा गया था पर अभी सब कुछ ठीक है मैं जल्द ही तुम लोगों के पास पहुंचने वाला हूं मैसेज देख कर सिर्फ बहुत ज्यादा खुश हो जाती है। और वही कार्तिक मनीष के फोन पर भी मैसेज करता है मैसेज देखकर मनीष खुश हो जाते हैं और सभी घर वालों को बताते हैं कार्तिक बिल्कुल ठीक है तभी सभी लोग देखते हैं कि आरोही और अक्षु वहां पर से गायब है।

तभी स्वर्णा कहती है कि हमें लगता है कि दोनों मंदिर गई है मनीष एक काम कीजिए आप जाकर सीरत को बता दीजिए और साथ में उन लोगों को लेकर भी आ जाइए वहीं आरोही मंदिर पहुंच जाती है। आरोही को देखकर सिरप आरोही से पूछती है कि तुम यहां क्यों आए तुम देख नहीं रही हो मौसम खराब है और घर वाले ने तुम्हें यहां पर आने कैसे दिया तभी आरोही बताती है कि मैं उन लोगों को बिना बताए ही यहां पर आ गई हूं मैं पापा के लिए प्रार्थना करने आई हूं

तभी सिरत कहती है लेकिन तुम आई कैसे तभी आरोही बताती है कि मैं पूरे रास्ते पापा के बारे में सोचते हुए आ गई इतने नहीं अब तू भी वहां पर आ जाती है तभी आगे कहती है मैंने इसे अपने पीछे आने से मना किया था लेकिन यह मेरा सुनती कहां है आरोही तो मंदिर पहुंच जाती है लेकिन अक्षरा सीढ़ियों पर नहीं चढ़ पाती है तभी सीरत अक्षरा से कहते हैं तुम वहीं पर रुको मैं तुम्हें लेने आ रही हूं लेकिन जैसे ही सूरत नीचे उतारने वाली होती है कि सीरियस उसका पैर स्लिप कर जाता है

और सीरत वहीं पर सीढ़ियों से फिसल कर गिर जाती है। जिसे देखकर आरोही और अक्षय एकदम हक्के बक्के रह जाते हैं अक्षरा और आरोही सिर्फ के पास जाती है और अक्षरा सीरत को गोद में लेती है तभी सीरत अपने परिवार के साथ बिताए हुए पलों को याद करती है और अक्षरा से आरोही का हमेशा ख्याल रखने को कहती है वहीं दूसरी ओर मनीष को सीरत के बारे में पता चलता है और वो टूट जाते हैं सभी गोइंका परिवार घबरा जाते हैं और मनीष से पूछने लगते हैं कि क्या हुआ

वही आरोही अक्षरा से कहती है आई हेट यू अक्षरा आज तुम्हारी वजह से मेरी मम्मा का ये हाल हुआ है अगर तुम मेरे पीछे नहीं आती और मम्मा तुम्हें बचाने नहीं आते तो मम्मा के साथ ऐसा कभी नहीं होता तुम प्लीज चली जाओ यहां से मैं तुमसे बात भी नहीं करना चाहती हूं अक्षरा को बहुत बुरा लगता है और अक्षरा उठकर वहां से आने लगती है और सीरत की बातों को याद करती है सीरत ने उसे समझाया था कि आरोही के बातों का बुरा मत मानना

और आज के एपिसोड का दिन वही पर हो जाता है वही कल के एपिसोड में आप सभी को लिप के बाद की कहानी देखने को मिलने वाली है । जहां अक्षु और आरोही बड़ी हो जाती है और अक्षु और आरोही दोनों को एक ही इसका पसंद आता है अक्षय आरोही को उसका दे देती है वही अक्षरा आगे आरोही को एक ऐसी जगह के बारे में बताती है जहां पर सारी इच्छाएं पूरी हो जाती

है उसी जगह पर अभिमन्यु आता है और अभिमन्यु को देखकर आरोही अपने मन में प्रार्थना करती है कि अभिमन्यु से मिल जाए वही अक्षु आरोही के लिए प्रार्थना करती है।

Leave a Reply