Udaariyaan 18th November full episode written update
Udaariyaan 18th November full episode written update

Udaariyaan 18th November full episode written update

Udaariyaan 18th November full episode written update | udaariyaan 18th November written update in hindi || Udaariyaan 18th November 2021 written update | Udaariyaan Written Update | udaariyaan upcoming twist

Watch Udaariyaan full episode in voot

Udaariyaan 18th November full episode written update सीरियल उदारियाँ के आज के एपिसोड में आप सभी देखेंगे कि तेजो अंगद से कुछ पेपर पर साइन करवाने के लिए आती है वही अंगद अपने घाव पर मरहम लगा रहा होता है जिसे देखकर तेजो घबरा जाती है और उससे पूछती है कि आपको ये चोट कैसे लगी और दवाई लगाने में उसकी मदद करती है अंगद कहता है बस ऐसे ही चोट लग गई तभी तेजो कहती है नहीं मुझे तो लग रहा है कि आपकी किसी के साथ हाथापाई हुई है लेकिन अंगद नहीं बताता है और तेजो से पूछता है वैसे आप सुबह किसकी वजह से हो रही थी जैस्मिन की वजह से ही ना तेजो कहती है

हां अब आपको इतना पता चल ही गया है तो ये बताइए कि आप की लड़ाई किसके साथ हुई लेकिन फिर भी अंगद तेजो को नहीं बताता है तभी अंगद के असिस्टेंट रजत से तेजो बात करती है और उसे फोर्स करती है और उससे पूछती है कि आखिर किसके साथ लड़ाई हुई है सर कि तभी अंगद का असिस्टेंट बता देता है कि फतेह यहां पर आए थे और उन्होंने ही सर के साथ मारपीट की है जिसे सुनकर तेजो चौक जाती है।

और अपने मन में कहती है लेकिन फतेह ने ऐसा क्यों किया और फिर तेरी मिट्टी में फतेह के पास जाती है और पति से कहती है कि तुमने अंगद के साथ मारपीट क्योंकि अगर मैं रोती भी हो तो तुम्हें क्या प्रॉब्लम है तभी फतेह कहता है कि अंगद को तुम्हें रुलाने का कोई हक नहीं है तभी तेजो पूछती है कि अच्छा और तुम्हें अधिकार है मेरे ख्याल से के साथ मारपीट करने का तुम मारपीट करने के बजाय उसके कारण पूछ सकते थे लेकिन फतेह कहता है कि

मुझे जो उस वक्त सही लगा मैंने वही किया तभी तेजो कहती है कि अगर मैं रोती हुई हूं तो तुम्हें क्या परेशानी है प्लीज मैं तुमसे हाथ जोड़कर बोलती हो तुम मेरी लाइफ से दूर रहो अरे तुम अपने जैस्मिन के साथ खुश क्यों नहीं हो तुम जैस्मिन के साथ खुश रहो और मुझे खुश रहने दो क्योंकि तुम्हारा और मेरा कोई रिश्ता नहीं है तो इसलिए तुम्हें मेरी फिक्र करने की भी कोई जरूरत नहीं है। और साथ ही साथ फतेह से ये भी कह देती है कि

अरे मैं तो तुमसे मिलना भी नहीं चाहती लेकिन क्या करूं एकेडमी की वजह से मुझे तुम्हारी शक्ल भी देखनी पड़ती है ना ही तो मैं वो भी नहीं देखना चाहती हूं मैं तुम्हें आखरी बार चेतावनी दे रही हूं फतेह कि तुम मेरे और अंगद से दूर रहो अंगद एक अच्छे इंसान हैं और वो मुझे रुलाने के बारे में सोच भी नहीं सकते तभी फतेह कहता है और मैं तुम्हें रोते हुए नहीं देख सकता तभी तेजो कहती है कि तुम शायद भूल रहे हो फतेह की तुम वो शख्स हो जिसकी वजह से मैंने खून के आंसू रोए हैं

तभी फतेह कहता है मुझे अपने किए पर शर्मिंदा हूँ लेकिन मैं तुम्हें कभी चोट पहुंचाने के बारे में सोच भी नहीं सकता। तभी तेजो कहती है कि अब तुम्हारा और मेरा रिश्ता दोस्ती का भी नहीं है जिस दिन तुमने डिवोर्स पेपर पर साइन किए थे उस दिन तुम ने सारे अधिकार को दिए थे इसलिए तुम मेरी जिंदगी से दूर रहो मैं तुम्हारे हाथ जोड़ती हूं और इतना कहकर तेजो वहां से जाने लगती है लेकिन फतेह तेजो का हाथ पकड़ लेता है तभी तेजो अपना हाथ छुड़ाती है और वहां से चली जाती है

तभी गुस्से में अपना बैग फेंक देता है और कहता है मैं तुम्हें कभी बता नहीं पाया तुझे लेकिन मैं आज भी तुम्हारी बहुत परवाह करता हूं लेकिन मैंने जो किया है अपने किए पर मुझे बहुत शर्मिंदा और अगर तेजो को अंगद ने नहीं बुलाया तो फिर तेजो किसकी वजह से रोइ और उसे समझ आ जाता है कि इन सब के पीछे सिर्फ और सिर्फ जैस्मिन ही है। और फिर फतेह को बहुत गुस्सा आता है वही दूसरी और जैस्मिन देखती है कि खुशवीर शादी के दिन कि खाने के बारे में केटरर से बात कर रहा होते हैं

और उन्हें बताते हैं कि कौन सी मिठाई सगाई वाले दिन पर परोसी जाएगी और उसके बाद जैस्मिन भी मैंन्यू चेक करती हैं तभी वहां से गुलाब जामुन हटा दिए जाते हैं तभी जैस्मिन गुस्से में कहती है इन्हें तो बस अपनी बेटी की पड़ी है मेरे बारे में तो कभी सोचना ही नहीं है अगर उसे गुलाब जामुन पसंद नहीं है तो कम से कम मेरे पसंद की तो सोचनी चाहिए थी तभी वहां पर फतह आता है और जैसमिन का हाथ खींच कर कमरे के अंदर लेकर जाता है और पूछता है कि तुमने तेजो से क्या कहा।

लेकिन जैस्मिन कहती है मैंने तेरे से कुछ नहीं कहा और फतेह मेरा हाथ दुख रहा है प्लीज राहत छोड़ो फतेह कहता है मैं जितना तुमसे पूछ रहा हूं तुम उतना मुझे जवाब दो कि तुमने तेजो से ऐसा क्या कहा कि तीनों की आंखों में आंसू आ गए विजय सिंह कहते हैं अच्छा तो मेरी शिकायत लेकर तुम्हारे पास पहुंच गई और अपना रोना रोते हुए मेरे बारे में तुम्हारा कान भर देना पते कहता है कि तुम जैस्मिन तेजो को जैसा सोचती हो वैसे बिल्कुल भी नहीं है वो बल्कि वो सिर्फ और सिर्फ तुम्हारे बारे में सोचती है

और तुम हमेशा उसके बारे में बुरा ही सोचती हूं पति कहता है कि तुम्हें पता है तेजो की वजह से ही आज हमारा परिवार हमारी शादी में शामिल हो रहे हैं तभी जैस्मिन कहती है यह सब देशों की चाल है और कुछ नहीं पते कहता है तुम अंधी हो गई वजह से तुम्हें शायद दिखाई नहीं दे रहा है कि थे जो हमारे लिए क्या कुछ करती है । तभी जैस्मिन कहती है तुम्हें तो सिर्फ और सिर्फ तीनों की अच्छा नहीं है नजर आती है ना मेरे में तो सिर्फ बुराई ही भरी हुई है ना तभी फतेह समझाता है

कि मेरा परिवार मेरे लिए बहुत मायने रखता है और मैंने अपने आप से अपने परिवार के साथ लड़ाई करके तुम्हें यहां रखा था कि मेरा परिवार तुम्हें स्वीकार सके सभी लोग एक साथ रह सके क्योंकि मैं लड़ाई नहीं चाहता था और मैं तेनू का बहुत शुक्रिया अदा करना चाहता हूं उसकी वजह से हमारा परिवार हमारे शादी में शामिल हो रहा है मैं तुम्हें आखिरी बार कह रहा हूं जैसे अगर तुम्हारी वजह से तेज ओके आंखों में आंसू आए तो मुझसे बुरा कोई नहीं होगा और इतना कह कर सकते वहां से चला जाता है।

फतेह के जाने के बाद जैस्मीन कहते हैं तुमने मेरा परिवार तो मुझसे भी नहीं दिया दे जो अब तुम मेरे फतेह को भी मुझसे छीन रही हो उसकी नजरों में मुझे गिराने की कोशिश कर रही हो इसका हर्जाना तो तुम्हारा करना ही पड़ेगा तेजो। वही अगली सुबह तेजो अपने एकेडमी जाने के लिए तैयार होकर आती है तभी देखते हैं क्या उसके घर में ढेर सारी पकवान और मिठाइयां और बनी हुई होती है और सभी लोग बहुत खुश होते हैं

तभी तेजो कहती है क्या बात है सब कुछ यहां पर अंगद के पसंद का है सच में अंगद यहां पर आए हैं क्या तभी सभी लोग बताते हैं कि हां अंगद आए हैं और रूबी कहते हैं कि मैंने ही उन्हें बुलाया था दरअसल शादी के बारे में बात करनी थी दिवंगत के पास जाती है और कहती है कि आपने सबके लिए गिफ्ट क्यों लाए हैं आपको पता है ना कि यह नकली शादी है तभी अंगद कहता है कि हां मुझे पता है लेकिन अगर इस नाटक में मुझे सच्चा परिवार मिल रहा है

तो मैं अपने परिवार को खुशी तो दे ही सकते हो ना क्योंकि परिवार क्या होती है यह सिर्फ और सिर्फ मैं जानता हूं क्योंकि मैं परिवार के लिए हमेशा तरसते आया हूं तभी तेजा कहते हैं आपके परिवार में कोई नहीं है आप अकेले हैं अंगद बताता है कि हां जब मैं 12 साल का था तभी मेरे सारे परिवार मुझसे छीन ले जिसे सुनकर तेजो को अंगद के लिए बुरा लगता है लेकिन अंगद एक बार फिर से तेजो को हंसाता है और अपने साथ कॉफी पर जाने को कहता है इधर जैस्मिन फतेह के पास आती है और फतेह से पूछती है

फतेह तुम क्या सच में मुझसे शादी करना चाहते जिसे सुनकर फतेह चौक जाता है और कहता है यार जैस्मिन अब तुम कैसी बातें कर रही हो कम से कम ओके टाइम तो चैन से रहने तभी जैस्मिन कहती हां तुम्हें तो मेरी शक्ल पसंद नहीं अगर अभी यहां पर तेजो आ जाती तो तुम्हारा चेहरा खिल उठता जिसे सुनकर फतेह चौक जाता है और एपिसोड कर दी एंड वहीं पर हो जाता

Leave a Reply