Sasural Simar Ka 2 25th October Written Update
Sasural Simar Ka 2 25th October Written Update

Sasural Simar Ka 2 25th October Written Update | Sasural Simar Ka 2 25th October 2021 written update | Sasural Simar Ka 2 25th October 2021 full episode written update

Sasural Simar Ka 2 25th October Written Update | Sasural Simar Ka 2 25th October 2021 written update | Sasural Simar Ka 2 25th October 2021 full episode written update | Sasural Simar Ka 2 25th October Written Update in Hindi | Sasural Simar Ka 2 Upcoming Twist

Sasural Simar Ka 2 Watch On VOOT

Sasural Simar Ka 2 25th October Written Update कलर्स टीवी का मोस्ट पॉपुलर सीरियल ससुराल सिमर का 2 में आप सभी को देखने को मिलने वाला है धमाकेदार ट्रैक आज के एपिसोड में आप सभी देखेंगे कि सिमर अपने कमरे में होती है और आरभ के जैकेट को लेकर बहुत ज्यादा इमोशनल हो रही होती है और कहती है और अब जी अब कुछ ही समय है मेरे पास जिसके बाद अब सिर्फ और सिर्फ इस कमरे की और आपकी यादें ही रह जाएगी मेरे पास

फिर मैं हमेशा हमेशा के लिए अकेली हो जाऊंगी और उसके बाद सिमर आरभ का कबर्ड खोलती है तभी उसका दुपट्टा और कान का बाली नीचे गिर जाता है समर उसे देखकर याद करती है कि ये कान की बाली और दुपट्टा तो मेरा है इसका मतलब आरभ जी ने इसे संभाल कर रखा था ।

और उसे देखकर सिमर बहुत ज्यादा खुश हो रही होती है तभी अदिति आती है और दरवाजा खटखटा ती है सीमा दरवाजा खोलती है तभी अदिति एक बड़ी सितारे लेकर आती है जो ढकी हुई होती है और वह बहुत ज्यादा खुश होती है और सिमर को बताती है कि बड़ी मां ने आपके लिए कुछ भेजा है सिमर पूछती है कि क्या है तभी अदिति सिमर से कहती है भाभी आप खुद ही देख लीजिए क्योंकि मैं आपको नहीं बता पाऊंगी मैं तो बहुत ज्यादा खुश हूं तभी सिमर कुछ समझ नहीं पाती है और अदिति से कहती है

बताओ ना अदिति क्या है तभी अदिति कहती है आप खुद ही देखिए सिमर जैसे ही थाल से कपड़ा हटा दी है वह देखती है कि साल में शादी का जोड़ा रखा रहता है जिसे देखकर सिमर को कुछ समझ में नहीं आता है और आदित्य से पूछती है हरित यह तो शादी का जोड़ा है बड़ी मां ने यह मुझे क्यों दिया है तभी अदिति कहती है आप ही सोच लो इसका मतलब की बड़ी मां आपकी और आरभ भाई की शादी दोबारा से करवाना चाहती है और आपकी गिरी प्रवेश भी अच्छे तरीके से होगी।

इस बीच बड़ी माँ आरभ को एक बड़ी सी थाली देती है और और अब से 3 पर ढका हुआ कपड़ा हटाने को कहती है तभी आरिफ कपड़े को हटाता है बड़ी मां कहती है कि जल्दी से तैयार होकर नीचे आ जाओ तभी आरव को कुछ समझ में नहीं आता है और और बड़ी मां से कहता है बड़ी मां लेकिन यह तो शेरवानी है शादी में पहनने के लिए इसका क्या मतलब है तभी बड़ी मां कहती है तुम्हें सब पता चल जाएगा तुम जल्दी से बस तैयार होकर नीचे आ जाओ आरभ एकदम कंफ्यूज हो जाता है उसे कुछ समझ में नहीं आ रहा होता है ।

वहीं दूसरी ओर अदिति सिमर से कहती है कि सिमर भाभी मैं आपको फिर से अपने भाभी के रूप में देख कर बहुत ज्यादा खुश हूं आज तो मैं एकदम सातवें आसमान पर हूं लेकिन सिमर पूछती है कि क्या आरव जी भी तैयार होकर आएंगे तभी आदित्य कहती है मैं अभी पता कर लेती हूं और उसके बाद अदिति आरंभ को फोन करती है और उससे पूछती है कि क्या बड़ी मां ने आपको भी शेरवानी दिए हैं तभी आरभ बताता है कि हां लेकिन मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा कि बड़ी मां क्या करना चाहती हैं तभी अदिति कहती है

लेकिन मुझे समझ में आ गया है आपको पता है भाई बड़ी मां ने भाभी के लिए भी शादी का जोड़ा भिजवाया है इसका मतलब तो आप समझ जाओगे अब बड़ी मां एक बार फिर से आप दोनों की शादी करवाने वाले हैं जिसे सुनकर आज बहुत खुश होता है और कहती थी क्या तुम सच कह रही हो तभी आदित्य कहती हां भाई मैं बिल्कुल सच कह रही हूं तभी आरंभ कहता है कि सिमर कहां है वहीं पर है क्या मुझे बात करवा दो उससे कभी आदिति कहती है इतनी आसानी से बात नहीं कर पाऊंगी आपने सुना नहीं है शादी के पहले दूल्हा-दुल्हन बात नहीं करते

तभी आरभ कहता है कि बस 2 मिनट मुझे उससे बात करवा दो तभी आदित्य सिमर को फोन देती है और कहती है आप बात करो मैं बस अभी आई और उसके बाद आराम से मार से कहता है सिमर क्या तुम शादी का जोड़ा पहनने को तैयार हो तभी सिमर कहती है अब बड़ी मां ने बोला है तो पहनना तो पड़ेगा ही तभी आरभ कहता है बात वह नहीं है मैं तुमसे पूछना चाहता हूं कि क्या तुम खुशी खुशी इस शादी के जोड़े को पहनना चाहती हो तभी सिमर कहती है मैं फोन रखती हूं मुझे जल्दी से शादी का जोड़ा पहन के नीचे हॉल में जाना है

जिसे सुनकर आरभ बहुत खुश होता है और कहता है इसका मतलब तुम भी मुझसे शादी करने के लिए तैयार होना सिमर सिमर शर्मा जाती है और कुछ नहीं बोलती है। और आराम से कहती है कि जल्दी से तैयार हो जाइए नहीं तो बड़ी मां फिर से गुस्सा हो जाएंगी वहीं दूसरी ओर रोमा शोभा से बदतमीजी से बात करती है और कहती है आप जिस तरह से हम बहुओं से बात करती है ना मुझे तो लगता है कि आप को जेल की सजा होनी चाहिए और आप जैसे सास को सजा देने का हक सिर्फ और सिर्फ बहुओं का होना चाहिए

अरे इतने दिनों से मैं हूं जो आपके बदतमीजी को सह रही हूं वरना दूसरी कोई बहू होती तो आप के पानी में जहर देकर आपको कब का मार दिया होता वहीं खड़े दिव्या भी सारी बातें सुन रही होती है शोभा वहां से जाने वाली होती है लेकिन रोमा शोभा के सामने जाती है और कहती है आप अब अपना चेहरा क्यों छुपा रही हैं आपको अपने किए पर पछतावा हो रहा है वही ललित देखता है कि रोमा सुबह से बदतमीजी से बात कर रहा है तभी फोन रख देता है और रोमा से कुछ बताने की कोशिश करता है

लेकिन रूपा ललित को कुछ बोलने ही नहीं देती और दिव्या से कहती है और दिव्या तुम तुम यहां पर मां जी की ताने सुनते रहना और जब ताने से तुम्हारा मन भर जाए फिर भी मेरे पास मत आना मैं अब घर छोड़कर हमेशा हमेशा के लिए जा रही हूं मथुरा क्योंकि ललित को नौकरी लगी है तभी ललित चिल्लाता है और कहता है बस करो रोमा मैंने तुमसे कहा कि कि मुझे कोई नौकरी नहीं लगी है जिसे सुनकर रोमा चौक जाती है और शोभा और दिव्या खुश हो जाती है।

वहीं दूसरी ओर अदिति नीचे जाती है और संध्या और पूरे परिवार वालों को बताती है कि बड़ी माँ ने आरभ भाई और सिमर भाभी की दूसरी शादी करवा रही है और उन दोनों को शादी का जोड़ा पहन कर नीचे आने को कहा है सभी लोग जाग जाते हैं और गजेंद्र कहता है कि बड़ी मां जो भी करती हैं सबके सामने करती है तभी गीतांशी देवी नीचे आती है और बताती है कि हम यहां पर मंडप तैयार करवा रहे हैं और आज ही सारी रस्में करवाने इसलिए वो सारी नौकरों को काम जल्दी जल्दी से करने को बोलती है

अदिति जाती है और बड़ी मां के गले लग जाती है और उनसे कहती है कि बड़ी मां आज मैं बहुत ज्यादा खुश हूं वही चित्र भी हैरान होती है और गिरिराज से कहती है कि मुझे तो कुछ समझ नहीं आ रहा कि बड़ी मां की मन में चल क्या रहा और आरभ कुछ भी कर ले बड़ी मां उसे बहुत प्यार से माफ कर देती हैं लेकिन इसी जगह अगर मेरा बेटा विवान होता तो अब तक बड़ी मां ने पिस्तौल निकाल दिए होते तभी गिरिराज इतरा से पूछते हैं

वैसे अभिमान है कहां तभी चित्र बताती है कि रीमा मैं उसे बात करने के लिए बुलाया था पता नहीं ऐसी कौन सी बातें कर रही है जो अभी तक उसकी बातें ही खत्म नहीं हुई है

और उसके बाद चित्रा रीमा को फोन करती है और विमान के बारे में पूछती है तभी रीमा बताती है कि विवान मेरा पति है और मेरा भी उस पर उतना ही हक है और इतना कहकर रीमा फोन कट कर देती है। इधर हॉस्पिटल में विवान का ऑपरेशन होता है लेकिन उसकी हालत बहुत ज्यादा नाजुक होती है डॉक्टर बताते हैं कि इन्हें ब्लड की बहुत ज्यादा जरूरत है तेरी मां अपना ब्लड देने को तैयार हो जाती है इधर संध्या सिमर को तैयार करती है और गजेंद्र आरव के तैयार होने में मदद करते हैं वही रीमा हॉस्पिटल में सोच रही होती है कि क्या मुझे पूरे परिवार को बता देना चाहिए

लेकिन अगर मैं बताऊंगी तो कहीं इसकी मां सारा इल्जाम मेरे पर ना डाल दे उधर मोहित भी उसी हॉस्पिटल में अपना इलाज करवा रहा होता है तभी जैसे ही बाहर आता है तो देखता है विवान उसी हॉस्पिटल में है जिसे देखकर मोहित चौक जाता है और कहता है

अगर इसे होश आ गया और इसने अगर पुलिस को बता दिया कि मैंने इस का यह हाल किया है तो पुलिस मुझे छोड़ेगी नहीं इसलिए मुझे कैसे भी करके इसे होश आने से पहले इसे मारना होगा और इससे मार कर सारा सबूत मिटाना होगा वही सिमर और आरव तैयार होकर आते हैं और एक दूसरे को देख रहे होते हैं और आज के एपिसोड का दी एंड वहीं पर हो जाता है।

Leave a Reply