You are currently viewing Pandya Store 5 October 2021 written update | Pandya Store 5 October 2021 full episode today written update

Pandya Store 5 October 2021 written update | Pandya Store 5 October 2021 full episode today written update

Pandya Store 5 October 2021 written update || Pandya Store 5 October 2021 Today Full Episode Twists | Pandya Store 5th October 2021 Written Update | Pandya Store Wriiten Update | Pandya Store Upcoming Twist | पंड्या स्टोर के आज के एपिसोड

Pandya Store watch full episode on Hotstar

Pandya Store 5 October 2021 written update पंड्या स्टोर के आज के एपिसोड में आप सभी देखेंगे कि हृषिता की मां उसके लिए ढेर सारे कपड़े भेजती है रिशिता कपड़ों के देख कर बहुत ही ज्यादा खुश हो रही होती है तभी रावि वहां पर आती है हृषिता रावि को बुलाती है और उससे कहती है कि तुम्हें जो ड्रेस पसंद है तुम ले लो ढेर सारे ड्रेस हैं तभी धरा भी वहां पर आती है और रिशिता धारा को भी कहती है कि भाभी इसमें से जो आपको पसंद है आप रख लीजिए क्योंकि ढेर सारे कपड़े हैं मेरी मां ने भेजे हैं तभी रावी कहती है हां धरा दी कपड़े तो बहुत ही अच्छे हैं

तभी रिशिता कहती है धरा भाभी आपने मिठाई खाई मेरी मां ने मिठाई भी भेजी है रुकिए मैं अभी लेकर आती हूं और रिशिता मिठाई लेने जाती है तभी रावि कहती है ओ गॉड बहुत बड़ी गड़बड़ हो गई तभी धरा पूछती है क्या हुआ रावि तू परेशान क्यों है रावि धरा से बताती है कि धरा दी वो मिठाई सुमन काकी के पास है वही सुमन जनार्दन के घर से आई हुई मिठाई कुत्ते को खिला रही होती है

कृष मना करता है लेकिन सुमन कहती है ये शुगर फ्री मिठाई है और कुत्तों को बहुत ही पसंद होता है शुगर फ्री मिठाई इसीलिए तो मैं इसे खिला रही हूं तभी वहां पर रिशिता आती है और सुमन से कहती है मां आप ये क्या कर रही है ये मेरे घर से मिठाई आई थी और आप इस मिठाई को इस कुत्ते को खिला रही हैं ये शुगर फ्री मिठाई है और ये मेरे लिए आई थी कम से कम एक बार तो आप मुझसे पूछ लेती की इस मिठाई का मुझे क्या करना है तो सुमन रिशिता से कहती है

तू बस शुकर कर कर कि मैंने इस मिठाई को गंदे नाले में नहीं डाला कुत्ते को खिला दी और कुत्ते को खिलाना शुभ होता है समझी जब से आई हैं राहू केतु बनके हमारे सर के नाच रही है देख कुत्ते को खिलाने से राहु केतु सब ठीक हो जाते हैं मैं नहीं मानती इन सब बातों को बिल्कुल नहीं पर कहते हैं तो सोचा कि चल कुछ तो कर खिला कर अगर मेरे बच्चों की जिंदगी में खुशियां जाए तो अच्छा है ना इसलिए खिला दिया मेरी बेबी जी की शुगर फ्री मिठाई कुत्ते जी ने खा ली

अब मंगल ही मंगल मेरा सब कुछ ये हृषिता कुछ नहीं बोलती और रोते हुए वहां से चली जाती है। वही आगे आप सब देखेंगे कि शिवा और शिवानी दोनों की सगाई हो रही होती है शिवा शिवानी को अंगूठी पहना देता है और जैसे शिवानी शिवा को अंगूठी पहनाने के लिए हाथ आगे बढ़ाते हैं तभी वहां पर राविया जाती है और कहती है रुक जाओ सिवा मेरा है और मेरा ही रहेगा और फिर रावी और शिवानी में शिवा को लेकर खींचातानी शुरू हो जाती है पंड्या परिवार के सभी लोग रावि का साथ देते हैं

और कहते हैं हां रावि तू बिल्कुल सही कह रही है शिवा सिर्फ तेरा है तभी शिवा जोर से चिल्लाता है मैं सिर्फ रावी कहूं और उसका नींद खुल जाता है और शिवा अपने सपनों से बाहर आ जाता है वहीं दूसरी ओर देव अपने कमरे में जाता है और रिशिता को सोया हुआ देखकर देव कहता है मैं जानता हूं और रिशिता तुम्हें मां से जो सम्मान मिलने चाहिए

वह नहीं मिल पा रहा है और मैं कुछ नहीं कर पा रहा हूं जाने अनजाने में मैं भी तुम्हें बहुत ज्यादा हर्ट कर रहा हूं जब भी कुछ सही करने जाता हूं कुछ ना कुछ गलत हो जाता है लेकिन अब मैं तुमसे प्रॉमिस करता हूं कि आगे से मैं तुम्हें परेशान बिल्कुल भी नहीं करूंगा

और उसके बाद देव रिसिता के पास आता है और उसके पैरों में क्रीम लगाता है रिशिता की नींद खुल जाती है और देव को देखकर धीरे से अपने मन में कहती है देखो तो कितने प्यार से क्रीम लगा रहा है वहीं दूसरी ओर शिवा हॉल में आता है और रवि को सोया हुआ देखता है और उसके बाद अपने और रवि के एक दूसरे के साथ बिताए हुए पलों को याद करता है तभी देखता है कि रवि अपने बिस्तर से गिर रही होती है शिवा कहता है कितनी बार कहा है इस मामी की बहन की बेटी को की जाकर कमरे में सो जाए लेकिन नहीं इसे तो यही सोना है

और उसके बाद शिवा रवि को बिस्तर के बीच में ले जाता है और रजाई से ढकने लगता है तभी रवि की नींद खुल जाती है और रवि चौक जाती है और चिल्लाने लगती है लेकिन रानी के चिल्लाने से पहले शिवा रवि का मुंह ढक देता है और धमकी देता है कि अगर तू चिल्लाई तो मैं मां को तेरे 1000000 रुपए हर जाने के बारे में बता दूंगा तभी रावि चुप हो जाती है और फिर शिवा रावि से कमरे में जाकर सोने को कहता है लेकिन रवि कमरे में जाने से मना कर देती है तभी शिवा उसे गोद में उठाकर कमरे में ले जाता है

इधर कृष की नींद खुल जाती है और वो देखता है कि कोई रावि को गोद में उठाकर लेकर जा रहा है अंधेरे के कारण कृष उस आदमी को नहीं देख पाता है और चिल्लाने लगता है तभी सभी लोग नीचे आते हैं और सभी लोग कृषि पूछते हैं कि क्या हुआ तभी कृष बताता है कि रावि भाभी को किडनैप कर लिया किसी ने कोई साया था जो रावि भाभी को उठाकर ले गया अब जल्दी से पुलिस को फोन कीजिए तभी रिसिता कहती है कि जरूर तुमने कोई सपना देखा होगा

रावि यहीं कहीं होगी लेकिन कृष कहता है नहीं कोई काला साया आया और रावि भाभी को अपने साथ लेकर गया और उसके बाद कृष गौतम से कहता है गोम्बी हो सकता है जनार्दन होंगे क्योंकि आज आपने उन्हें उठा कर लाया था ना तो हो सकता है उन्होंने बदला लेने के लिए रावि भाभी का किडनैप कर लिया होगा तभी रिसिता कहती है चुप करो प्लीज कुछ भी मत बोलो मेरे पापा क्यों आएंगे और इतनी रात को मेरे पापा रावि को किडनैप करके ले कर जाएंगे

ऐसा हो ही नहीं सकता और रिशिता कृष को घर का मेन दरवाजा दिखाती और कहती है ये अंदर से लॉक है तो क्या मेरे पापा उड़ कर आए मेरे पापा भूत है जो रावि को लेकर गए तभी कृष कहता है यह तो आप ही जानो ना इधर रावि परेशान हो जाती है कि अगर हम दोनों को इस तरह से परिवार वाले देखेंगे तो क्या सोचेंगे तभी शिवा कहता है ये सब तुम्हारी ही गलती है और फिर रावि और शिवा के बीच में एक बार फिर से बहस होने लगता है तभी इसमें भी मेरी ही गलती है तभी शिवा कहता है

लोग क्या सोचेंगे रावि कहती है यही सोचेंगे कि एक लड़का और एक लड़की जिनके बीच कोई रिश्ता नहीं है वो इस तरह से अकेले कमरे में क्या कर रहे हैं। कृष कहता है कि वो साया रावी भाभी को शिव के कमरे की ओर ले गई। तभी सभी लोग शिवा के कमरे में देखने आते हैं शिवा और रवि पलंग के नीचे छिप जाते हैं कृष कहता है शायद शिवा का भी अपहरण हो गया है देवरी सीता से पूछता है कि तुम अपने पापा की तरफदारी क्यों कर रही हो तभी रिश्ता कहती है मैं अपने पापा की तरफदारी नहीं कर रही हूं

कृष ने बताया कि कोई काला साया आया था उसने मेरे पापा को नहीं देखा है और तुम लोग हर चीज के लिए मेरे पापा को ही दोस्ती क्यों ठहराते हो तभी धरा कहती है तुम लोग लड़ना बंद करो और लड़ने की वजह शिवा और रावि को ढूंढो गौतम कहता है कि कमरे की खिड़की भी बंद है इसलिए घर में कोई नहीं आ सकता हमें किचन की खिड़की जाकर देखना पड़ेगा और सभी लोग किचन की तरफ बढ़ते हैं इधर रावि को छिपकली दिखाई देती है और छिपकली देखकर रावि डर जाती है

और जोर से चिल्लाने लगती है लेकिन एक बार फिर से शिवा रावि का मुंह बंद कर देता है और रावि और शिवा एकदम नजदीक आ जाते हैं वहीं सारे लोग शिवा और रावि को ढूंढ रहे होते हैं कृष कहता है कि हमें एक बार जनार्दन के घर जाना चाहिए देर कहता है कृष बिल्कुल सही कह रहा है तभी रिसिता कृषि कहती है कि तुम बार-बार ये क्यों बोल रहे हो कृष तुमने कहा है कि तुमने काला साया देखा है मेरे पापा को नहीं तभी कृष कहता है आपके पापा का दिल भी तो काला ही है ना और तभी रिसिता को अचानक से रावि का दुपट्टा पलंग के नीचे दिखाई देता है

हृषिता शिवा के कमरे में आती है और पलंग के नीचे देखती है तो शिवा और रावि पलंग के नीचे छुपे रहते हैं जिसे देखकर रिश्ता चौक जाती है और आज के एपिसोड का दी एंड वहीं पर हो जाता है वही कल के एपिसोड में आप सभी देखेंगे पूरा पंड्या परिवार मिलकर माता रानी का कलश रखते हैं

और फिर धरा माता रानी के सामने से सिंदूर उठाकर अपने मांग में सिंदूर लगाती है और से रिशिता को लगाने को कहती है रिश्ता भी लगा देती है तभी धरा रावि से कहती है अब तुझे क्या न्योता देना पड़ेगा क्या तुझे सिंदूर अपने मांग में नहीं लगाना है रवि सोचने लगती है तो ये सब होगा कल के आने वाले एपिसोड

Leave a Reply