You are currently viewing Pandya Store 2nd August 2021 Written Update In Hindi | Shiva misunderstands Raavi

Pandya Store 2nd August 2021 Written Update In Hindi | Shiva misunderstands Raavi

Pandya Store 2nd August 2021 Written Update In Hindi | Shiva misunderstands Raavi

Pandya Store 2nd August 2021 Written Update In Hindi पंड्या स्टोर के आज के एपिसोड में आप सभी देखेंगे की रावि धरा को तैयार करके आंगन में लेकर जाती है जैसे ही सुमन मां धरा को देखती है वो बहुत खुश होती है और बोलती है अब लग रही है तू पांडेय परिवार की बहू पहले ही मेरा बेटा पेटिकोट छाप था अब तो तुझे देखने के बाद और भी ज्यादा लट्टु हो जाएगा ये सुनने के बाद धारा शर्मा जाती है और इतनी में रावि धरा से बोलती है धरा दी अब सीधा आप अपने कमरे में जाओ ठीक है ये सुनने के बाद धरा बोलती है वो तो ठीक है पर जिन्होंने यह कमरा बनाने में इतनी मेहनत की है वो मेरे तीन बंदर कहां है ये सुनने के बाद सुमन में बोलती है

ओ ये तीन बंदर को छोड़ दे वो तीन बंदर मेरे हैं तू आने वाले अपने तीन बंदर बंदरिया के बारे में सोच तो यह सुनने के बाद धरा चौक जाती है और बोलती है मां तीन तभी मां बोलती है नहीं तिन चार पाँच जितना तुझे करने का मन है कर ले मैं नहीं रोकूंगी और ये बोलकर रावि मां दोनों हंसने लगते हैं तभी रिशिता बोलती है हां हां भाभी आप जल्दी से अपने कमरे में चली जाओ ये सब के चक्कर में रहोगी तो और भी लेट होगा और वैसे भी मैं ना बहुत थक गई हूं आज के लिए बहुत हो गया है ये सुनने के बाद माॕ रिशिता से बोलती है गुड नाइट पटरानी रिशिता सब को गुड नाईट बोल कर अपने कमरे में चली जाती है

और धारा मां का आशीर्वाद लेती है मां धरा को आशीर्वाद देती हैं और उसे कमरे में जाने को बोलती हैं धरा अपने कमरे में जाने लगती है और वो बहुत खुशी हो रही होती है क्योंकि बहुत अच्छे से कमरे की सजावट की होती है तभी पीछे से गोम्बी भी आता है और धरा को अपने गोद में उठा लेता है और धरा से बोलता है इतनी भी कत्ल मत लगाकर कि मैं मर ही जाऊं और फिर गोम्बी धरा को कमरे की तरफ लेकर जाता है जैसे ही धरा और गौंबी अपने कमरे में जाते हैं

वो देखते हैं कि शिवा देव और कृष तीनों उनके बेड पर सोए रहते थे ये देखकर धरा हंसने लगती है गोम्बी धरा से बोलता है ये जो तेरे तीन बंदर है ना कभी सुधरने नहीं वाले हैं धरा बोलती है देखो तो सही कितना मेहनत करके कमरा सजाया इन तीनों ने चलो चले ये सुनने के बाद गौंबी बोलता है हम क्यों जाएं तुम इन तीनों को निकालो यहां से अरे इन दोनों की शादी करवा दिए इतने बड़े हो गए सांड हो गए हैं

लेकिन अभी तक इनको अक्ल नहीं आई है मैं कहीं नहीं जाने वाला उठा इनको लेकिन धरा बोलती है नहीं मैं नहीं उठाऊंगी गोम्बी बोलता है तू नहीं उठाएगी धरा बोलती है नहीं और फिर गोम्बी खुद ही तीनों को उठाने लगता है लेकिन धरा उसे रोक लेती है और बोलती है सब कुछ भूल जाते हैं गौंबी तुझे याद नहीं है 10 साल पहले भी यही हुआ था तो फिर एक और बार सही और फिर धरा और गौंबी तीनों भाइयों के साथ ही जाकर उसी बेड पर लेट जाते हैं.

सुबह हो जाती है
धरा नहा धोकर आरती कर रही होती तभी अपने कमरे में जाती है और वो देखती है अभी तक गोम्बी सोया रहता है ये देखकर धरा बोलती है घर में इतना काम पड़ा है और ये अभी तक सोया है और उसके बाद वह गौम्बी के पास आती है और बोलती है तुम इतने चैन से सोए हो कि तुम्हें उठाने का भी मन नहीं कर रहा और फिर धरा प्यार से गोम्बी को उठाती है लेकिन गोम्बी नहीं उठता है यह देखकर धरा बोलती है ठीक है तो तुम्हे नहीं उठना तुम सोए रहो मैं जा रही हूं जैसे ही धरा ये बोल कर वहां से जाने लगती है गौंबी झट से उठकर पीछे से धरा का हाथ पकड़ लेता है और धरा से बोलता है

ऐसे उठाएगी तो कौन उठेगा और फिर घर और गोम्बी के बीच में एक बार फिर से रोमांस शुरू हो जाता है तो वहीं दूसरी तरफ आंगन में शिवा देव और कृष्ण घर को सजा रहे होते हैं और साथ ही साथ वो लोग को झूले को भी सजा रहे होते हैं इतने में ही शिवा के हाथ से सारा तेल गिर जाता है ये देखकर कृष शिवा के पास आता है और बोलता है कि शिवा ये तू क्या कर रहा है बिना गलती के तुझसे कोई काम नहीं होता है ना माना कि हम लोग किराने वाले हैं

लेकिन इसका मतलब ये तो नहीं कि हर वक्त हम मसाले और तेल के साथ गरबा खेलते रहे इतने में ही उधर से रावि आती है और वो बहुत जोर जोर से हंसती है ये देखकर शिवा को बहुत गुस्सा आता है और वो कृष से बोलता है तुझे बहुत हंसी आ रही है ना ले अब तू ही काम कर शिवा को लगता है कि रावि उस पर हंस रही होती है लेकिन वह अपनी मांसीमाॕ से बात करके हंस रहि होती है इतने में कृष रावि से बोलता है भाभी अभी तक आप तैयार नहीं हुए आपको सोमनाथ की सबसे सुंदर लड़की दिखना है तो आपको दो-तीन घंटे पहले तैयार हो जाना चाहिए यह सुनने के बाद रावि कृष से बोलती है मैं ऐसे ही अच्छी लगती हूं

वैसे तो रूक में फटाफट तैयार होकर आती हूं
और फिर घर में सावन का पूजा शुरू हो जाता है घर में बाहर से लोग भी आने शुरू हो जाते तभी एक औरत आती है और अपनी गोद में बच्चा लेकर आती उसे देख कर सुमन बहुत खुश होती है और उसके बच्चे को अपनी गोद में लेकर उसे लाड प्यार करने लगती है इतने में ही एक और औरत बोलती है देखो तो सुमन बहन बच्चे को देखकर कितनी खुश है तभी दूसरी औरत बोलती है दादी बनने की उम्र तो इनकी भी हो गई है और वो बोलती है

सुमन बेन कभी तो हमें भी मौका दो अपने पोते पोती से खेलने का और यह बोल कर हंसने लगती हैं तभी सुमन बोलती है देंगे को देंगे उसकी चिंता मत कर और उसके बाद वो धरा से बोलती है धरा तू जल्दी से नाश्ता लगा धरा रिशिता से बोलती हैं रिशिता तू थोड़ी मेरी मदद कर देगी और फिर धरा रिशिता की मदद करने लगती है और सबके लिए नाश्ता लेकर आती है धरा के घर में दो सैतान बच्चे आ जाते हैं और वो बहुत शैतानी करते हैं

धरा जो शरबत उन्हें पीने के लिए देती है वो दोनों उस शरबत को एक दूसरे पर डालने लगते हैं और बोलते हैं अभी इस शरबत को देखकर होली का याद आ रहा है यह देखकर रिशिता उन दोनों के पास जाती है और बोलती है ये तुम दोनों क्या कर रहे हो तभी दोनों बच्चे शैतानी करते हैं और शरबत रिशिता के ऊपर भी डाल देते हैं ये देखने के बाद रिशिता को बहुत गुस्सा आता है धरा आती है और दोनों को बच्चों को समझाती है कि अच्छे बच्चे ऐसे नहीं करते लेकिन वो दोनों नहीं मानते हैं

और वह रिशिता के कमरे में चले जाते हैं और देखते हैं कि उनके कमरे में देव और रिशिता की फोटो पड़ी रहती है उसे लेकर दोनों बाहर आ जाते हैं और वही रावि अपने कमरे में तैयार हो रही होती है तभी उसके दुपट्टे से हींग और तेल की बदबू आ रहे होती ये देखकर राबी बोलती है पता नहीं इतनी तेज बदबू मेरे दुपट्टे से कैसे आ रही है ऐसा लग रहा है

जैसे किसी ने तेल में हींग डालकर तड़का लगाया हो इतने में ही शिवा वहां पर आ जाता है और वो रावि से बोलता है क्या कहा तुमने अभी के अभी मेरे कमरे से निकल जाओ और वही बच्चे आंगन में देव और रिशिता की तस्वीर लेकर पूरे आंगन में घूम रहे होते हैं ये देखकर सभी लोग रिशिता पर हंसते हैं तभी रिशिता देखती है कि वो दोनों बच्चे उनकी तस्वीर लेकर घूम रहे हैं रिशिता और धरा उस तस्वीर को लेने के लिए पूरे आंगन में दौड़ते हैं

यह देख कर सुमन बोलती है तुम्हारे बच्चे बहुत शरारती हैं तभी पड़ोस की औरत बोलती है हां शरारती तो है इसके लिए मुझे माफ कर देना पर क्या करें बच्चों से पूरा आंगन हरा भरा लगता है पता ही नहीं चलता कब पूरा दिन उसी में चला जाता है तभी सुमन बोलती है हां ये बात तो बिल्कुल सही कहा तुमने मुझे भी बच्चे बहुत पसंद है इसीलिए तो मैंने चार-चार पैदा कर दिया लेकिन बेटी की बात ही कुछ और है बेटी का सुख मुझे नहीं मिल पाया

मैं उसका कन्यादान नहीं कर पाई तभी एक लेडीस बोलती है कोई बात नहीं सुमन बेन आपकी तो तिन-तीन बहू है आपका वो शौक भी बहुत जल्दी पूरा हो जाएगा तभी दूसरी औरत बोलती है धरा भाभी 10 साल से तो बच्चा पैदा नहीं कर पाई अब क्या करेगी यह सुनने के बाद धरा को बहुत दुख पहुंचता है और आज के एपिसोड का दि एंड वहीं पर हो जाता है

PRECAP- Pandya Store 2nd August 2021 Written Update In Hindi: Shiva misunderstands Raavi

वही कल के एपिसोड में आप सभी देखेंगे कि सभी औरतें मिलकर सुमन और धरा को ताना दे रही होती है कि आप ना तीन-चार बच्चे गोद ले लो क्योंकि आपके घर में तो किलकारियां गूंजने से रही ये सुनकर रिशिता को बहुत तेज गुस्सा आता है और वो उन औरतों को सुनाने लगती है तो ये सब होगा कल के आने वाले एपिसोड में

Leave a Reply