Pandya Store 16th October 2021 written update
Pandya Store 16th October 2021 written update

Pandya Store 16th October 2021 written update | Pandya Store 16th October 2021 full episode today written update

Pandya Store 16th October 2021 written update || Pandya Store 16th October 2021 Today Full Episode Twists | Pandya Store 16th October 2021 Written Update | Pandya Store Wriiten Update | Pandya Store Upcoming Twist | पंड्या स्टोर के आज के एपिसोड

Pandya Store watch full episode on Hotstar

Pandya Store 16th October 2021 written update पंड्या स्टोर के आज के एपिसोड में आप सभी देखेंगे कि सुमन सभी से कहती है कि रामलीला में मांडवी तो मेरी दिशा ही बनेगी अगर वो इस रामलीला में मांडवी नहीं बनी तो उसे बहुत बुरा लगेगा और उसे बुरा लगेगा तो फिर मुझे बुरा लगेगा और फिर मुझे बुरा लगेगा तब तो फिर तुम लोग समझ ही सकते हो तभी धरा कहती है लेकिन मां ये तो गलत है ना और धरा ये भी कहती है कि दिशा को रामलीला के बारे में कहा कुछ पता होगा उसने कब देखा है सोमनाथ का रामलीला तभी सुमन कहती हैं

अरे सोमनाथ का रामलीला उसने नहीं देखा तो क्या हुआ कहीं और तो देखी होगी ना रामलीला पूरे भारत में होती है, इसलिए तू उसकी टेंशन मत ले तभी धरा रिशिता को आगे लाती है और कहती है मां अब रिशिता को ही देख लो इसे रामायण के बारे में कहा कुछ पता है रामायण के बारे में कहां कुछ जानती है तभी रिशिता भी कहती है हां मां मैं थोड़ा बहुत जानती हूं। और उसके बाद सुमन धरा से कहती है भगोड़ी की बेटी तू तो ऐसे बात कर रही है

जैसे कि कागड़ी की भतीजी ने पूरे रामायण का पीएचडी कर रखा हो तभी रावी कहती है काकी मासी ने मुझे बचपन से रामायण की कहानी सुनाई है तभी सुमन हंसने लगती है और कहती है अच्छा जो दूसरों के घर में जाकर कुरुक्षेत्र करवाती है उसने तुम्हें रामायण का पाठ पढ़ाया है क्या बात है अच्छा चल ठीक है मैं तुझसे एक सवाल करती हूं अगर तूने उस सवाल का जवाब दिया तो पास नहीं तो फेल अगर तूने सही जवाब नहीं दिया तो तेरा रामलीला में आने की एंट्री बंद

और उसके बाद सुमन रावि से पूछती है कि राम ने किस के जूठे बेर खाए थे रावि एकदम चुप हो जाती है उसे कुछ पता नहीं होता है धरा इशारे में रावि को बताने की कोशिश करती है लेकिन वो भी कुछ समझ नहीं पाती तभी शिवा अपने मन में कहता है ऐसे तो दिन रात इसकी जुबान कैंची की तरह चलती रहती है लेकिन अभी पता नहीं से कौन सा सांप सूंघ गया है लगता है ये भी मुझे उस दिशा के साथ बांध के ही रहेगी अरे गधेडी कुछ तो बोल सुमन भी रावि से कहती है क्या हुआ मारकुंडी गाय चुप क्यों है कुछ नहीं पता ना तुझे

मैं तीन तक गिनुंगी अगर तूने सही जवाब नहीं दिया तो समझ लेना रामलीला में तू नहीं आएगी रावि चुपचाप खड़ी रहती है तभी रिशिता धीरे से जाकर धरा के कान में खुश हो जाती है कि व्हाट्सएप पर मैसेज कर दो आप जरा जल्दी से रावि को व्हाट्सएप पर मैसेज कर देती है और रावि को मैसेज देखने को बोलती है इधर सुमन काउंट डाउन शुरु कर देती है जैसे ही तीन बोलने वाली होती है रावि फटाक से जवाब दे देती है। सभी लोग खुश हो जाते हैं और तभी कृष सुमन से कहता है

मां हम एक काम करते हैं दिशा को दर्शकों के बीच में बैठा देते हैं ताकि उसे भी तो पता चल सके कि वह किस परिवार में एंट्री लेने वाली है गौतम और धरा कृष को चुप करा देते हैं कभी सुमन कहती है तो चलो ये रहा कि रामलीला सोमनाथ में होगी, लेकिन पांड्या फैमिली स्टाइल में। वह प्रभु लाल और अनीता बैठे रहते हैं तभी प्रफुल्ला अनीता से कहती है कि सुमन ने सभी को कहा है कि इस रामलीला में उसके परिवार वाले ही भाग लेंगे मैं तो आगे बैठकर सबसे ज्यादा ताली बजा होगी क्योंकि उन लोगों की इतनी ज्यादा बेज्जती जो होने वाली है।

जैसे ही प्रफुल्ला अनीता को बताती है कि पंड्या परिवार रामलीला में भाग लेने वाला है अनीता बहुत ज्यादा खुश हो जाती है और प्रफुल्ला से कहती है फूई आपने इतनी बड़ी खुशखबरी मुझे दे दी एक बार फिर से मेरा गौतम के साथ रहने का सपना पूरा हो गया अब मेरा गौतम राम बनेगा और मैं उसकी सीता क्योंकि धरा तो इस हालत में सीता बन नहीं सकती तो उसकी जगह गौतम की सीता तो मैं ही बनूंगी ना। तभी प्रफुल्ल अनीता को डांटती है और उससे कहती है कि तू आराम से घर में बैठ

और रामलीला में मेरे साथ बैठेगी और चल अभी घर के कामों में मेरी मदद कर तभी अनीता अपने नेल पॉलिश किए हुए नाखून दिखा देती है प्रफुल्ला मुंह बनाकर वहां से चली जाती है। इधर इशिता अपने ऑफिस में होती है तभी मैनेजर उसे बताते हैं कि उसका लोन अप्रूव हो गया है रिशिता खुश हो जाती है और मैनेजर को थैंक्स बोलती है और थैंक्स बोलकर हृषिता केविन के बाहर चली जाती है। जैसे हृषिता केविन के बाहर जाती है मैनेजर कामिनी को मैसेज करके बताता है कि उसने उसका काम कर दिया का कामिनी मैसेज पढ़ती है

और खुश होती है कि जैसा मैंने चाहा था वैसा हो गया अब पंड्या परिवार लोन की जाल में फंसने वाला है जैसा हम चाहते थे तभी कल्याणी कामिनी से पूछती है कि क्या हम यह सब सही कर रहे हैं क्योंकि हमारी बेटी पंड्या परिवार में बहुत खुश है तभी कामिनी कल्याणी को चुप करा देती है और उसे कहते हैं कि शुभ शुभ बातों की जगह अशुभ बातें मत किया करो इतना कहकर कामिनी वहां से चली जाती है तभी कीर्ति कल्याणी से कहती है कि मुझे नहीं लगता मम्मी कि हमें इन सब की जरूरत है ।

वहीं दूसरी ओर धरा किचन की सफाई कर रही है। सुमन धारा को बुलाती है और ताकत वाले लड्डू धारा को दिन में दो बार खाने के लिए कहती है और कहती है कि प्रेगनेंसी में ही बहुत ही फायदेमंद होता है जब मैं मां बनने वाली थी तो मेरी उसकी माँ भी मुझे बना कर दिया था तो मैंने सोचा कि मैं तुझे बना कर दूं तभी धारा सुमन से कहती है लेकिन आपने यह सब कब किया तभी सुमन बताती है कि मैंने काम था के घर में उसके साथ छुप-छुप कर बनाया है।

धरा डॉक्टर की बात को याद करती है और सुमन से कहती है मां सब कुछ ठीक हो जाएगा ना तभी सुमन कहती है तो परेशान क्यों हो रही है सब कुछ ठीक हो जाएगा मैंने भी 4 बच्चों को जन्म दिया है और बस तू अब अपने राम की सीता बनने की तैयारी कर दे तभी धारा करती है लेकिन मैं आपने तो मुझे मना किया था ना तभी सुमन कहती है

हां मैंने कहा था लेकिन तू अपने राम की सीता बन बाकी राम जी सब कुछ ठीक कर देंगे और बस तू अभी अपने प्रेगनेंसी को इंजॉय कर इतने में ही बाहर से दिशा की आवाज आती है सुमन कहती है मेरी दिशा आ गई मैं जा रही हूं विदिशा से बात करने

रावि शिवा के कपड़ों को अलमारी में रख रही होती है और दिशा और शिवा के किस के बारे में सोच कर उसे गुस्सा आ रहा होता है और रवि अकेले में बड़बड़ा रही होती है तभी पीछे से शिवा सुन लेता है जैसे ही रावि मूर्ति है वो शिवा से जाकर टकरा जाती है तभी रावि कहती है मुझे गंदा कमला पसंद नहीं है इसलिए मैं इसे साफ कर रही थी शिवा कहता है कुछ दिनों की बात है फिर तुम्हें तो ये घर छोड़ना ही पड़ेगा जैसा कि तुम चाहती हो इसलिए जैसा मैं चाहता हूं कपड़ा वैसे ही रखो सिवारामी के करीब जाता है

और वही सुमन शिवा को दिशा से मिलने के लिए बुलाती है रावि पूछती है जाओ तुम्हारे दिशा आ गई जाकर फिर से किस कर लेना ऐसे तो मेरे साथ जंगली सांड की तरह लड़ते रहते हो लेकिन उसके साथ कितना प्यार से बात करते हो मैंने सब देखा तभी शिवा करते अच्छा तो अब मैं समझा कि बिना मौसम बरसात तुम नहीं कराया था रावि कुछ नहीं बोलती और वहां से चली जाती है सुमन दिशा से किचन में जाकर धरा से बात करने के लिए कहती है। दिशा धरा से बाहर करने के लिए मान जाती है तभी किचन में धारा कह रही होती है कि मैं मां की जीत के आगे हार नहीं मानूंगी

वही सुमन कह रही होती है एक बार दिशा भगोड़ी की बेटी को पसंद आ जाए फिर सारा कुछ अच्छा हो जाएगा दिशा धरा के पास आती है और कहती है कि चाय मैं बना देती हूं लेकिन धरा दिशा से कहती है कि तुम इस घर की मेहमान हो और हम मेहमान से काम नहीं करवाते हैं निशा कहती है अरे धरा भाभी मैं तो बस कुछ दिन की मेहमान हो फिर तो मैं इसी घर में आ जाऊंगी ना तभी धारा दिशा से कहती है देखो दिशा मैं जानती हूं कि तुम एक बहुत अच्छी लड़की हो लेकिन मेरा मानना है कि

रावि और शिवा का रिश्ता अभी भी ठीक हो सकता है तो तुम उनके बीच में क्यों आ रही हो तबीयत दीशा कहती है कि मैं कहां बीच में आ रही हूं रावि खुद अपने रिश्ते को संभाल नहीं पाई। शिवा और रवि तो एक दूसरे को बचपन से जानते हैं ना फिर भी वह दोनों एक दूसरे को समझ नहीं पाए तभी रवि यह बात सुन लेती है और अपने मन में सोचती है कि शायद दिशा सही कह रही है शायद मैं और शिवा एक दूसरे के लिए बने ही नहीं है

तभी धरा कहती है मैं रिश्ते में विश्वास करती हूं और मेरा दिल कहता है कि शिवा और रावि एक दूसरे के लिए बने हैं मैं तुम्हारी सोच तो नहीं बदल सकती लेकिन अब इस रिश्ते को संभालना रावि के हाथ में है वो शिवा को जाने देती है या हमेशा के लिए उसे अपना बना लेती है। और आज के एपिसोड का दी एंड वहीं पर हो जाता है वही सोमवार के एपिसोड में आप सभी देखेंगे कि डॉक्टर धरा का रिपोर्ट देखती है और जोक जाती है और कहती है धरा के साथ ऐसा नहीं हो सकता और डॉक्टर गौतम को फोन करके जल्द से जल्द उससे मिलने को कहती है

Leave a Reply