Imlie 22th October 2021 written update
Imlie 22th October 2021 written update

Imlie 22th October 2021 written update | Imlie 22th October 2021 full episode today written update

Imlie 22th October 2021 written update | Imlie 22th October 2021 written update in hindi | Imlie 22 October 2021 Today Full Episode Twists | Imlie 22th October 2021 Written Update | Imlie Written Update | Imlie Upcoming Twist | इमली आज का एपिसोड

imlie watch full episode on Hotstar

Imlie 22th October 2021 written update सीरियल इमली के आज के एपिसोड में आप सभी देखेंगे कि इमली रूपी से कहती है कि मैंने प्रणव जी को ध्रुव भैया के कमरे से निकलते हुए देखा था और ये कार्ड भी उन्हीं के कमरे से वो लेकर आए हैं इसीलिए मुझे लगता है कि प्रणब जी जो कह रहे कि आपसे प्यार करते हैं वैसा नहीं है उनको आप का भरोसा जीतने के लिए जैसे कोशिश करना चाहिए वो नहीं कर रहे हैं तभी पीछे से मालिनी कहती है क्या तुम ये प्रूफ कर सकती हो नहीं ना तू रूपी दीदी को उनके खिलाफ क्यों भड़का रहे हो तुम भी जानती हो कि

मार्केट में एक जैसे कार्ड हजार मिलते हैं तो अगर प्रणब ने रूपी दीदी को वही काट दिया जो ध्रुप भैया ने निधि भाभी को दिया था तो ये कोइंसिडेंस भी तो हो सकता है इस बुनियाद पर हम उसकी नियत पर शक नहीं कर सकते तभी इमली कहती नहीं मालूम दीदी प्रणव जी पहले ही भी मालिनी दीदी को बहुत बड़ा धोखा दे चुके हैं तभी मालिनी कहती है कि धोखा तो तुमने भी हमें दिया है मुझे इस परिवार में सबको जिस दिन से तुम ने इस घर में कदम रखा था उस दिन से तुम झूठ बोल रही थी

और मेरे पीठ पीछे लेकिन फिर भी हमने तुम्हें माफ कर दिया ना उसके बाद तुम होती कौन हो प्रणव को जज करने वाली इमली रुपाली को कहती है रुपाली दीदी मेरे पर भरोसा कीजिए तभी मालिनी इमली से कहती है तुम ऐसा क्यों कर रही हो इमली क्योंकितुम से किसी ने तुम्हारा हक नहीं थी ना इसलिए भगवान के लिए बस करो इतने सालों बाद रुपाली दीदी को उनकी खुशियां वापस मिली है लेकिन ये बातें घर तोड़ने वाली कैसे समझ पाएगी तभी इमली कहती है हम किसी का घर नहीं तोड़े मालिनी सिद्धि मालिनी कहती है

रियली तभी इमली कहती है झूठ की बुनियाद पर जो रिश्ता रहता है वह टूट ही जाता है और मालिनी दीदी ये बात आपको समझ नहीं चाहिए कि किसी को पाने के चलते कितना गिरा जाता है तभी मालिनी कहती है कि मैं आदित्य की लीगल बाइफ हूं और इस सच्चाई को तो तुम झुठला नहीं सकती हो और फिर मालिनी और इमली के बीच में बहस शुरू हो जाती है तभी रूपाली उन दोनों को चुप कराती है और इमली से कहती है

इमली में अभी तुमसे बहस नहीं करना चाहती हूं तुम मेरी बहुत क्लोज हो इसलिए मैं तुम से बोल रही हूं क्योंकि जिसके बारे में जो बोलना है जो बोलो लेकिन प्रणव के अगेंस्ट मैं तुम्हें कुछ नहीं बोलने दूंगीपर यह मत सोचना कि मैं तुझे एहसान करवा रही हूं लेकिन मैंने तुम्हारे और भाई के रिश्ते में दिल से तेरा साथ दिया है तूने जब-जब जोरिया किया मैंने सपोर्ट किया तेरे लिए मां पापा तो क्या मैं खुद से लड़ गई इमली और अब जब मेरे लिए लड़ने की बारी आई

तो तूने मुझे सपोर्ट करना तो दूर मेरे से ही सब कर रही हो जब से प्रणब ने इस घर में कदम रखा है तो उसके टेस्ट ले रही है उसके अगेंस्ट उस पर शक कर रही है मैंने कुछ बोला नहीं बोला ना प्रणब ने मेरे साथ धोखा किया है ना तो अगर मैं उसे एक चांस दे रही हूं तो क्यों नहीं दे रहे दे रही हो

तुम मैं भरोसा कर रही हो ना उस पर तो तू क्यों नहीं भरोसा नहीं कर रही उस पर इमली भरोसा तो कर उस पर तभी इमली रुपाली से कहती है कि मैं इसलिए भरोसा नहीं कर रही हूं रूपाली दीदी क्योंकि एक बार आपका दिल पहले टूट चुका है और दोबारा मैं आपको टूटते हुए नहीं देख सकती हूं तभी रूपाली कहती है अगर तू भरोसा नहीं कर सकती तो मुझे तो करने दे तो मुझे भरोसा करने से नहीं रोक सकती है और अब तो और कुछ बोले इससे पहले तुम यहां से चली जाओ इमली कुछ बोलने की कोशिश करती है लेकिन मालिनी भी रूपाली का साथ देती है

और इमली को वहां से जाने को बोल देती है इमली रोते हुए वहां से जाती है जिसे देखकर मालिनी बहुत खुश होती है और अपने मन में कहती है रूपाली दीदी को घर से बाहर निकालने से तो अच्छा है कि घर में रहकर ही इन्हें इमली के अगेंस्ट कर दू और उसके बाद मालिनी रूपाली को गले से लगाती है और अंदर ही अंदर मुस्कुराती है वही इमली आदित्य के कमरे में जाती है जहां आदित्य अपना ऑफिस का काम कर रहा होता है तभी इमली अपने मन में सोचती है कि

एक पल के लिए मालिनी दीदी की बातों पर विश्वास बाबू साहेब नहीं करेंगे लेकिन रुपाली दीदी के बारे में इनसे बात करूंगी तो जरूर समझेंगे और उसके बाद इमली आदित्य से कहती है कि मुझे आपसे कुछ बात करनी थी तभी आदित्य कहता है हां बोलो जैसे ही इमली कुछ बोलने वाली होती है कि आदित्य को ऑफिस से फोन आ जाता है आदित्य के बॉस कहते हैं कि तुम एक काम करो उस पेनड्राइव को ऑफिस में ही लाकर रख दो यहां पर सिक्योरिटी भी टाइट है

और वीडियो भी वेरीफाई कर लेंगे ताकि फिर बाद में कोई यह ना कहें कि वीडियो नकली है आदित्य कहता है आप बिल्कुल ठीक कह रहे हैं सर मैं थोड़ी ही देर में पेन ड्राइव लेकर ऑफिस पहुंचता हूं आदित्य अपने बॉस से बात कर रहा होता है तभी पीछे से प्रणब सुन लेता है आदित्य इमली से कहता है तुम जल्दी से पेन ड्राइव ले कर आओ मैं ऑफिस के लिए निकलूंगा तभी इमली अपने मन में सोचती है कि बाबू साहेब अपने काम में भी बिजी है

इसलिए हम उन्हें डिस्टर्ब नहीं करेंगे हम रूपाली दीदी के बारे में इनसे बाद में बात करेंगे वहीं प्रणव सोचता है कि अगर एक बार पेनड्राइव ऑफिस चला गया तो मैं वहां से कभी नहीं निकाल पाऊंगा इसलिए मुझे उससे पहले ही पेनड्राइव निकालनी होगी इधर इमली भी पेन ड्राइव लेने के लिए जाती है और उधर से प्रणब भी पेनड्राइव लेने के लिए जाता है लेकिन रास्ते में ही रूपाली प्रणव को रोक लेती है और उससे कहती है कि हम चाह रहे थे कि नवरात्रि के बाद हम एक 2 दिनों के लिए कहीं बाहर जाकर एक दूसरे के साथ टाइम स्पेंड करें

घर में सबके सामने बात करने में हम दोनों को नहीं बन पा रहा है लेकिन प्रणब का ध्यान तो कहीं और रहता है रुपाली प्रणव से रिसोर्ट बुक करने को कहती है लेकिन प्रणब कहता है तुम बुक कर लो तुम जहां पर खुश रहोगी मैं भी खुश रहूंगा और उसके बाद रूपाली से कहता है कि तुम बस 2 मिनट वेट करो मैं अभी तुरंत आता हूं मुझे जरूरी काम है और उसके बाद प्रणब अपने मन में सोचता है मुझे किसी भी तरह से उस इमली से पहले पहुंचना होगा पेनड्राइव के पास तभी प्रणव दौड़ कर जाता है

तो देखता है कि मुझे दुर्गा माता की मूर्ति के पास खड़ी होती है जैसे ही मिले पेनड्राइव निकालने वाले होते की डोर पर बजती है और इमली दरवाजा खोलने चली जाती है त्रिपुरा ना भागकर मूर्ति के पास आता है लेकिन उधर से इमली पुलिस वालों के साथ आती है पुलिस वालों को देख कर प्रणब डर जाता है तभी उधर से हरीश और पंकज आते हैं और इंस्पेक्टर से कहते हैं हमें माफ कर दीजिएगा इंस्पेक्टर साहब हम जानते हैं कि हमारे इस बच्चे का जबान कैंची की तरह चलता है

लेकिन इमली दिल की बहुत साफ है लेकिन इंस्पेक्टर साहब कहते हैं कि नहीं आपकी बच्ची बहुत अच्छी है और इसने हमको घर पर आरती के लिए बुलाया है और उसके बाद एक-एक कर सभी लोग घर में आ जाते हैं लेकिन प्रणब मूर्ति के पास ही खड़ा होता है तभी इमली को शक होता है और इमली कहती है ऐसा क्या है जो प्रणव जी दुर्गा मैया की मूर्ति से हट ही नहीं रहे कहीं मूर्ति चुरा ना तो नहीं चाह रहे हैं और उसके बाद अचानक से बहुत भीड़ हो जाती है और प्रणब वहां से पेनड्राइव लेकर भागने लगता है

लेकिन आगे जाकर रुपाली से टकरा जाता है और उसके हाथ से पेनड्राइव छूट जाता है रुपाली कनक से कहते हैं प्रणब आप इतनी हड़बड़ी में क्यों है आखिर बात क्या है आप सच सच बताइए कि आप हमारे लिए ही आए हैं ना तभी प्रणव कहता है हां रूपाली मैं सिर्फ और सिर्फ तुम्हारे लिए आया हूं लेकिन तभी पीछे से इमली कहती है झूठ बिल्कुल झूठ बोल रहे हैं प्रणव जी क्योंकि यहां पर यह सिर्फ और सिर्फ बाबू साहेब का पेनड्राइव चुराने के लिए आए थे

जिसे सुनकर रूपाली चौक जाती है और प्रणव कहता है कि मैं पेनड्राइव लेकर क्या करूंगा मेरे पर कैसा इल्जाम लगा रही है इमली तुम और उसके बाद अपनी तलाशी लेने को कहता है रुपाली तलाशी लेती है लेकिन पेन ड्राइव नहीं मिलता है और एक बार फिर से रूपाली इमली को बहुत ज्यादा डांटती है और उससे कहती है कि माना कि तुम्हारे और भाई के बीच में अभी कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है लेकिन इसका मतलब यह तो नहीं कि मेरे और प्रणव के रिश्ते को तुम खराब करोगी हिंदी रूपाली को समझाने की कोशिश करती है

लेकिन रूपाली इमली की बात नहीं मानती है और इमली को वहां से जाने को कहती है इमली बहुत परेशान होती है तभी आदित्य इमली से कहता है तुम यहां क्या कर रही हो मैंने तुम्हें पेनड्राइव लाने को कहा था ना तभी इमली कहती है कि पेनड्राइव अभी मेरे पास नहीं है और आदित्य देखता है कि इमली बहुत ज्यादा परेशान होती है तभी आदित्य इमली से पूछता है इमली तुम ठीक तो हो ना और आज के एपिसोड का दिन वही पर हो जाता है

वही कल के एपिसोड में आपसे भी देखेंगे कि पुलिस इंस्पेक्टर आदित्य को जेल लेकर जाएंगे जिसे देखकर सभी लोग जाग जाएंगे और परेशान हो जाएंगे तो ये सब होगा कल के आने वाले एपिसोड में

Leave a Reply