Imlie 20th October 2021 written update
Imlie 20th October 2021 written update

Imlie 20th October 2021 written update | Imlie 20th October 2021 full episode today written update

Imlie 20th October 2021 written update | Imlie 20th October 2021 written update in hindi | Imlie 20 October 2021 Today Full Episode Twists | Imlie 20th October 2021 Written Update | Imlie Written Update | Imlie Upcoming Twist | इमली आज का एपिसोड

imlie watch full episode on Hotstar

Imlie 20th October 2021 written update सीरियल इमली के आज के एपिसोड में आप सभी देखेंगे कि इमली किचन में आती है और वो प्रणव को किचन में देखती है तो उसे पूछती है कि आप रसोई में क्या कर रहे हैं तभी प्रणय कहता है कि मैं चाय बना रहा था तभी इमली कहती है कि अभी सभी ने चाय पी ली है जिसे सुनकर प्रणय एकदम घबरा जाता है। और इमली से कुछ बोलने वाले होता है कि तभी वहां पर राधा उसके पास आती है और प्रणय को बुलाती है।

प्रणव सोचता है कि आज तो माताजी ने बचा लिया है। इस जासूस से और फिर प्रणय वहां से चला जाता है इमली वॉश बेसिन में पानी डालती है। राधा फोन पर किसी से कहती है कि रूपाली ने प्रणय को माफ कर दिया है। तभी अपर्णा राधा से कहती है कि दीदी मैं आपसे एक बात कहना चाहती हूं आपने रूपाली को जन्म दिया है लेकिन उसे पाला मैंने और हम सभी ने हैं और जब रूपाली ससुराल छोड़कर वापस घर आई थी तो हम सभी को बहुत दुख हुआ था साथ ही साथ उसे भी बहुत ज्यादा दर्द हुआ था

और उस वक्त हमने उसे बहुत मुश्किलों से संभाला था रात रात भर उसके साथ हम लोग जागा करते थे और आपने इतनी आसानी से प्रणव को एक मौका कैसे दे दिया तभी राधा कहती है कि मौका मैंने नहीं रूपाली ने उसे मौका दिया है । तुम तो वहीं थी ना तुमने देखा था ना मैंने रूपाली पर जरा भी जोड़ नहीं डाला आप लोग खुद देखिए ना रूपी इतने सालों से प्रणव से अलग रह रही है इतने सालों में उसने एक बार भी तलाक की बात नहीं की और ना ही किसी ने दिलचस्पी दिखाई क्यों शायद वो भी इसी इंतजार में थी कि शायद प्रणब खुद आकर उससे माफी मांगे

और उसे लेकर जाए और आज जब यह सब हो रहा है तो मैं अपनी बेटी को कैसे मना करूं इतने में ही मालिनी आती है और अपर्णा से कहती है ताई जी बिल्कुल सही कह रही है मां इन फैक्ट मैं भी यही सोच रही थी कि हम कई सारे गिफ्ट लाकर रूपी दीदी को बड़े प्यार को और खुशी से प्रणब के साथ विदा करेंगे शादी के बाद सेपरेट के होना क्या होता है यह मुझसे बेहतर कौन जानता है और सिपरेशन सिर्फ हस्बैंड से नहीं बल्कि पूरे ससुराल से होता है एक लड़की से शादी करके ससुराल जाती है तो कई सारे रास्ते बनाती है इसी को बहन बना लेती है

तो किसी को भाई बना लेती है और क्योंकि उसकी बस एक आदमी से नहीं बन पाई तो उसे इन सारे रिश्तो से मुंह मोड़ लेना पड़ता है जो कि बिल्कुल भी सही नहीं है जब मैं यहां नहीं रहूंगी तो मैं मुझे आदित्य से ज्यादा आप लोगों की याद आएगी और मुझे पूरा यकीन है कि रूपी दीदी भी अपने ससुराल वालों को बहुत मिस करती होंगी वो आप सब लोगों के सामने नहीं कह पा रही होंगी क्योंकि आप लोगों को बुरा लगेगा पंकज कहते हैं मुझे तो लगता है

हमे इतनी जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए प्रणव आज ही तो आया है और हम अपनी बेटी को उसके साथ आज ही किसी से बात कर सकते हैं अपर्णा कहती है मुझे भी ऐसा ही लगता है भाभी हमें प्रणब को थोड़ा वक्त देना चाहिए तभी राधा कहती है लेकिन शुभ काम में देरी क्यों और उसके बाद राधा सब घर वाले को कन्वेंस करने की कोशिश करती है। वहीं दूसरी और इमली आदित्य से बात करने जाती है लेकिन फिर दरवाजा खोलने से इमली हिचकी चाहती है तभी पीछे से आदित्य आ जाता है

और इमली से कहता है तुम हमसे बात करने में इतना ही चर्चा क्यों रही हो तभी इमली कहती है नहीं बाबू साहब हम इतनी जा नहीं रहे हम डर रहे हैं आपसे तभी आदित्य कहते तुम मुझसे डर क्यों रही हो तभी इमली कहते हैं क्योंकि हमें डर है बाबू साहेब कि हम आपको फिर से कोई सच्चाई बताने जाएं और आप फिर से हम पर भरोसा ना करें तभी आदित्य कहता है क्या तुम हमें कभी माफ नहीं कर पाओगे इमली तभी इमली कहते नहीं बाबू साहेब ऐसी बात नहीं है दरअसल बात यह है कि हमें प्रणव बाबू कुछ ठीक नहीं लगते हैं

उन्होंने रूपी दीदी को इतना बड़ा धोखा दिया और उसके बाद भी रूपी दीदी उन्हें माफ क्यों कर नहीं है तभी आदित्य कहता है कि तुम्हें क्या लगता है हमें उस इंसान को इस घर में देखना अच्छा लग रहा है इतना आसान है हम जानते हैं वह एक अच्छा इंसान नहीं है और जब हमारी बहन को हमारी जरूरत होगी तब हम एक चट्टान की तरह उनके साथ खड़े रहेंगे तभी इमली कहती है पर अभी क्यों नहीं रोक रहे हैं आप तभी आदित्य कहता है हम उन्हें सलाह दे सकते हैं उन्हें सतर्क कर सकते हैं लेकिन प्रणव को माफ करना ये रूपी दीदी का डिसीजन है

और हम किस मुंह से रूपी दीदी को अपना डिसीजन बदलने को कहा जबकि हम तुमको धोखा दे चुके हैं और हम तुमसे एक बार नहीं बल्कि कई बार माफी मांग रहे हैं फिर भी तुम हमें माफ नहीं कर रही हो अभी भी तुम मुझे हर रोज ताने देती हो इमली तुम्हारे ताने मेरे दिल में एक कांटे की तरह चुभता है तुम मुझसे लड़ लो झगड़ लो लेकिन प्लीज तुम मेरे साथ ऐसे कटी कटी मत रहो तभी इमली कहती है और मेरे दुख का क्या बाबू साहेब जो मेरे साथ हुआ है उसका क्या आपने जो मेरे साथ धोखा दिया उसका क्या और आपको मेरा तो तब पता चलेगा जब आपको भी कोई धोखा देगा

और उसके बाद प्रणव पूजा मंदिर में आता है और सोचता है कि यही सही समय है मुझे जल्दी से पेनड्राइव निकालना होगा और यहां से निकल जाना होगा और जल्दी से प्रणब पेनड्राइव खोजने लगता है तभी रूपाली उसके पास आती है और उसे पूछती है कि प्रणब तुम यहां पर क्या कर रहे हो तभी प्रणब एक बार फिर से घबरा जाता है और रूपाली से कहता है मैं माता रानी को धन्यवाद बोल रहा था कि तुमने मुझे माफ कर दिया रुपाली एकदम सब पका कर खड़ी रहती है तभी प्रणब रूपाली से कहता है

क्या वो रूपाली तुम्हें मुझ पर भरोसा तो है ना तभी रूपाली कुछ नहीं बोलती इतने में ही इमली वहां पर आ जाती है और रुपाली से कहती है भरोसा एक दूसरे को जानने से होता है रुपाली दीदी तभी रूपाली कहती है कि लेकिन हम और प्रणब तो एक दूसरे को कई सालों से जानते हैं तभी इमली कहती है लेकिन अब जानते हैं या नहीं यह हमें पता करना होगा तभी राधा इमली से कहती है तो क्या अब तुम इन दोनों का टेस्ट लोगी इतने में हरीश और पंकज सभी लोग कहते हैं तो क्या हुआ हम लोग वैसे भी तो शादी से पहले कुछ सवाल पूछते ही है

ना तो अभी पूछ लेंगे तो क्या दिक्कत है और फिर सभी लोग इमली को सवाल पूछने को कहते हैं इमली सवाल पूछने लगती है जहां प्रणव और रूपाली का एक जवाब सही होता है बाकी सारे सवाल जवाब गलत होते हैं मालिनी इमली को रोकने को कहती है लेकिन इमली मालिनी से कहती है मालिनी दी एक साथ सिनेमा देखना आसान होता है लेकिन एक दूसरे को जानना बहुत ही मुश्किल होता है और इंग्लिश सभी से कहती है कि जब तक प्रणव जी अच्छे से रूपाली विधि को जान नहीं लेते तब तक यह यही रहेंगे हमारे साथ हमारी निगरानी में मारे में कितनी है

तुम कैसी बातें कर रही हो इमली प्रणब जी अभी भी इस घर के दामाद है तभी अपना कहती है बेटी का ससुराल से मायके लौट आना इससे बड़ी बात और कुछ नहीं होती है मालूम है जब यह परिवार को बेज्जती बर्दाश्त कर सकते हैं कल पुराना तो हमारे साथ नहीं सकता है और सभी लोग इमली की बात से सहमत होते हैं और हरीश कहते हैं जब तक रूपाली अपने मन से यह ना कह दे कि अब वह अपने ससुराल जाने के लिए तैयार है तब तक प्रणाम और रूपाली यहीं पर रहेंगे प्रणव को बहुत ज्यादा गुस्सा आता है

और इमली से कहता है इमली तुम चाहे कितनी ही कोशिश क्यों ना करूं लेकिन इस बार मैं हार नहीं मानने वाला हूं और आज के एपिसोड का एंड वहीं पर हो जाता है

Leave a Reply