Ghkkpm 25th October written update
Ghkkpm 25th October written update

Ghkkpm 25th October written update | Ghum Hai kisikey pyaar meiin 25th October written update | Ghum hai kisikey pyaar meiin 25th October 2021 full episode written update

Ghkkpm 25th October written update | Ghum Hai kisikey pyaar meiin 25th October written update | Ghum hai kisikey pyaar meiin 25th October 2021 full episode written update | Ghum Hai kisikey pyaar meiin Upcoming Twist | Ghum Hai kisikey pyaar meiin 25th October written update in Hindi

Ghum Hai Kisi key Pyaar Mein serial watch on  Hotstar

Ghkkpm 25th October written update गुम है किसी के प्यार में कि आज के एपिसोड में आप सभी देखेंगे कि सोनालि काकू सिलबट्टे पर मिर्च और अदरक पीस रही होती हैं और वहीं पर ओंकार बैठे हुए रहते हैं तभी सोनाली चाची ओंकार चाचू से कहती है आप तो बस ऐसे ही मुंह पर हाथ रख कर बैठे रहेंगे ओमकार जी क्योंकि आप से तो कुछ होने वाला है नहीं सभी लोगों ने मुझे इतना कुछ बोला लेकिन आप चुपचाप सुनते रहे

आपने एक शब्द भी नहीं बोला और देखिए आपकी वजह से मुझे मसाले पीसने पड़ रहे हैं मेरे हाथ छिल गए हैं तभी पीछे से सई आ जाती है और कहती है काकू आपको ये सब करने की जरूरत नहीं है

आप हटिऐ यहां से मैं ये सब कर देती हूं सोनालि काकू कहती है वाह तू आई है मेरी मदद करने वो भी इतना सज धज के तू इतना सज धज के मेरे सामने इसलिए आई है ताकि तू मुझे चिढ़ा सके वैसे मैं सब जानती हूं तुम्हें मुझे ऐसे देख कर तो बहुत खुशी मिल रही होगी ना सई कि अच्छा हुआ जो सोनाली चाची को ये काम करना पड़ रहा है सई कहती है ऐसा कुछ भी नहीं है मैं सिर्फ पूजा के लिए तैयार हुई हूं पर आप यहां से हट जाइए ये काम मैं कर दूंगी सोनाली चाची इतना जोर से सई को धक्का मारती है कि सई गिरने वाली होती है कि

तभी भवानी काकू वहां पर आ जाती है और सई का हाथ पकड़कर उसे गिरने से बचा लेती हैं और वो कहती हैं सई तू ठीक तो है ना फिर भवानी काकू गुस्से में सुनाली चाची से कहती है तुम ने तो हद कर दी सोनाली तेरी हिम्मत कैसे हुई सई को धक्का देने की तुझे शर्म नहीं आती क्या मैं अब ये बर्दाश्त नहीं करूंगी सई कहती है ऐसा कुछ भी नहीं है काकू मेरे ही पैर लड़खड़ा गया था भवानी काकू सई को बैठाती है फिर कहती है अब बता तू ये सब क्यों कर रही है जब सई महाभोज की तैयारी कर रही थी

और जब वो मसाले कूट रही थी तब तो तू बड़ा मजाक उड़ा रही थी और फिर आज अब तेरी बारी आई तो तुझे इतना बुरा लग रहा है अश्विनी काकू भागकर सई के लिए गिलास पानी लेकर आती है सई पानी पीती है तो पाखी मन ही मन कहती है

वाह फिर शुरू हो गये इसके नौटंकी ये पहले भी यही करती थी और आज एक बार फिर से यही सब कर रही है भवानी काकू कहती है देख सोनाली अब मैं तेरी बदतमीजी बर्दाश्त नहीं करूंगी जहां तक मुंह चलाने की बात थी तब तक तो ठीक है अब तू सीधे धक्का धुक्की पर आ गई है तुझे शर्म नहीं आती क्या अगर तुझे मसाले पीसने की आदत नहीं है

तो आदत डाल ले और ये ले अदरक का टुकड़ा और इसको भी पीस देना सोनाली चाची मसाले को सिलबट्टे पर पटकती है और कहती है बस बहुत हो गया अब मैं बर्दाश्त नहीं करूंगी वहिनी आप मेरी बेइज्जती पर बेज्जती करे जा रही है और मैं सिर्फ चुपचाप सुनती रहूं अरे जब मैंने उस दिन उसका मजाक उड़ाया था तो मेरे साथ तो पत्रलेखा भी शामिल थी और खुद आप ही शामिल थी फिर सजा सिर्फ मुझे ही क्यों दी जा रही है इस हिसाब से तो आप लोगों को भी सजा मिलनी चाहिए ओंकार चाचू कहते हैं

बिल्कुल सही कह रही है मेरी पत्नी सोनाली को अकेले सजा क्यों दी जा रही है जब उसके साथ ये पत्रलेखा भी शामिल थी और आप खुद भी शामिल थी अरे आप लोग तो इसके प्यार में ऐसे अंधे हो गए हैं कि देख लेना एक दिन सई के चक्कर में ये घर टूट के बिखर जाएगा एक एक रिश्ता टूट कर तार-तार हो जाएगा तभी वही खड़े निनाद दादा कहते हैं बस करो ओंकार तुम बहुत ज्यादा बोल रहे हो वो भी मेरी बहू के बारे में इतनी बदतमीजी से बात मैं बर्दाश्त नहीं करुंगा तभी सोनाली चाची कहती हैं रहने दीजिए ओमकार जी मत बोलिए

ये लोग तो कुछ सुनेंगे नहीं और रहा सवाल सई कहा तो ये परिवार फैमिली की वैल्यू कैसे जान पाएगी इसका तो कोई परिवार है ही नहीं ये तो अनाथ है ना अच्छा हुआ जो इसके आवा आज जिंदा नहीं है देखते तो शर्म से पानी-पानी हो जाते सई उठकर वहां से जाने लगती है लेकिन तभी सम्राट सई का हाथ पकड़ लेता है और कहता है सई तुम्हें कहीं भी जाने की जरूरत नहीं है चलो इधर बैठो सम्राट कहता है अब मैं किसी की भी मुंह से ये नहीं सुनना चाहता हूं कि सई अनाथ है सई का बड़ा भाई सम्राट अभी जिंदा है और उसके साथ है तभी पीछे से मोहित आता है

और कहता है मैं मोहित सई का छोटा भाई मैं अपनी ताई का हर हाल में साथ दूंगा और हर सिचुएशन में साथ दूंगा तभी पीछे से विराट आता है और कहता है और मैं विराट जवान सई की ताकत मैं ये शपथ लेता हूं कि सई की हर घड़ी में साथ दूंगा मैं सई को हर हाल में किसी भी तरह से अकेला नहीं छोडूंगा तभी अश्विनी काकू कहती हैं और मैं हूं सई कि आई भवानी काकू आगे बढ़ती है और कहती है और तुम सब लोग हो लेकिन मैं भी यहां पर हूं मैं हूं सई की भवानी काकू आप लोगों को मुझ से बात करनी होगी तभी निनाद दादा कहते हैं

अरे भाई सब लोग मुझे क्या घूर रहे है मैं हूं सई का बाबा जब आई और बाबा साथ हो तो सई अकेली कैसे होगी तभी शिवानी बुआ भी कहती हैं और मैं बहुत सई की छोटी बुआ तभी मानसी ताई कहती हैं और मैं हूं सई की बड़ी बुआ तभी देवी आ जाती है और कहती है

और मैं हूं सई की ताई और देखो इतना बड़ा है सई का पूरा परिवार सई अपने परिवार को देखकर बहुत ज्यादा खुश होती है उसके अंदर एक अलग ही हिम्मत आ जाती है मानसी बुआ कहती हैं सोनाली तुम्हारा भी तो एक बेटा है बहू है तुम्हें ये सब बातें शोभा देती है क्या तुम्हें बोलने से पहले कम से कम एक बार जरूर सोचना चाहिए कि

तुम्हारी उम्र वाली औरतें नहीं बोलती हैं तभी पीछे से पाखी की मां जाती है और कहती है क्या मैं गलत समय पर आई हूं तभी पाखी दौड़कर आ जाती है और अपनी मां को गले लगा लेती है इधर सोनाली चाची गुस्से में फिर से सिलबट्टे पर मसाला पीसना शुरु कर देती हैं लेकिन तभी उनकी उंगली पीस जाती है और खून निकलने लग जाता है पाखी भागकर जाती है और कहती हे भगवान ये आपने क्या कर लिया लाइए इधर लाइए में हल्दी लगा देती हूं और इसके बाद इस में बैंडेज कर दूंगी ठीक हो जाएगा तभी भवानी काकू सब देख रही होती है और याद करती हैं कि

किस तरह से जब सई की उंगली कटी थी सिलबट्टे पर मसाले पीसने से तो पाखी ने कितना मजाक उड़ाया था और ये सब कहा था कि उसने जानबूझकर ये सब किया है भवानी काकू गुस्से में आगे बढ़ती है और कहती हैं सोनाली तो घायल हो गई पाखी पर बाकी के मसाले तुम सिलबट्टे पर पीस देना तुम्हें तो आदत हो गई पाखी कहती है ये आप क्या कर रही है बड़ी मामी मैं मसाले कैसे पी लूंगी मैं कैसे पी सकती हूं मेरे पास तो और भी काम है ना काम करने के लिए इसलिए मैं ये काम नहीं कर सकती

वैसे भी विसर्जन की पूजा भी तो मुझे और सम्राट को ही करनी है ना भवानी काकू कहती हैं इस बार विसर्जन की पूजा तुम और सम्राट नहीं बल्कि विराट और सई साथ में करेंगे सई को गणपति बप्पा का धन्यवाद भी तो करना है और उसके बाद भवानी काकू सई से कहती है क्यों सई तुम तैयार होना गणपति बप्पा का धन्यवाद करने के लिए तभी सई कहती है हां काकू मैं पूजा करना चाहती हूं अगर किसी को बुरा ना लगे तो तभी भवानी काकू कहती है इसमें बुरा लगने वाली कोई बात नहीं है पाखी शौक हो जाती है और आज के एपिसोड का दी एंड हो जाता है

वही कल के एपिसोड में आपसे भी देखेंगे कि सई विराट से बोलेगी पति-पत्नी तो एक साथ कमरे में रहते हैं पर देखिए ना आई हम दोनों को अलग अलग कर दी है तो इस हिसाब से हम दोनों पति-पत्नी तो रहे नहीं फिर हमारा ये रिश्ता क्या कहलाता है विराट सर विराट हंसता है और कुछ बोलने वाला होता है तभी वहां पर पाखी आ जाती है पाखी पानी के छींटे दोनों लोगों के मुंह पर मारने लगती है विराट सॉक्ड हो जाता है और गुस्से में पाखी को घूरते हुए देखता है ये सब देखेंगे कल के एपिसोड में

Leave a Reply