You are currently viewing Ghkkpm 15th October written update | Ghum Hai kisikey pyaar meiin 15th October written update | Ghum hai kisikey pyaar meiin 15th October 2021 full episode written update
Ghkkpm 15th October written update

Ghkkpm 15th October written update | Ghum Hai kisikey pyaar meiin 15th October written update | Ghum hai kisikey pyaar meiin 15th October 2021 full episode written update

Ghkkpm 15th October written update | Ghum Hai kisikey pyaar meiin 15th October written update | Ghum hai kisikey pyaar meiin 15th October 2021 full episode written update | Ghum Hai kisikey pyaar meiin Upcoming Twist

Ghum Hai Kisi key Pyaar Mein serial watch on  Hotstar

Ghkkpm 15th October written update गुम है किसी के प्यार में कि आज के एपिसोड में आप सभी देखेंगे कि पाखी बोलेगि कि विराट मैं तुम्हारी प्यारी सी बीवी के लिए प्यारा सा फूल लेकर आई हूं और तुम हो कि मुझसे इतनी बदतमीजी से बात कर रहे हो विराट कहता है देखो पाखी अभी सई की हालत बहुत नाजुक है और डॉक्टर ने मना किया है कि कोई ऐसा तमाशा ना करें जिससे कि सई की हालत बिगड़ जाए इसलिए बेहतर होगा कि तुम यहां से चली जाओ मैं ये बात तुमसे पहले भी बहुत बोल चुका हूं और आखरी बार बोल रहा हूं कि प्लीज जाओ यहां से पाखी तभी पाखी विराट से कहती है

तुम शायद भूल रहे हो रिश्ते में मैं तुम्हारी कुछ लगती हूं उस लिहाज से तुम्हें मुझसे इस तरह से बात करने का कोई अधिकार नहीं है विराट पाखी के सामने हाथ जोड़ता है और कहता है लो मैं तुम्हारे आगे हाथ जोड़ता हूं और आखिरी बार कह रहा हूं मैं कोई बहस नहीं में नहीं पड़ना चाहता हूं जस्ट गो पाखी तभी पाखी विराट कहती है अच्छा कम से कम इतना तो बता दो कि ये जो प्यारी सी फूल लेकर आई हूं इसको क्या करू

डस्टबिन में फेंक दूं या क्या करूं इन फूलों का विराट गुस्से में फ्लावर पॉट की तरफ इशारा करता है पाखी समझ जाती है विराट फूल को फ्लावर पॉट में रखने को बोल रहा है पाखी जाती है पुराने फूल हटाती है और नए फूल को फ्लावर पॉट में रखते हुए कहती है इन फूलों में से ना एक दो कलियां जैसे चोटी बनाई है उसी तरह से अपनी बीवी के बालों में लगा देना इतना कहकर पाखी सई के कमरे से बाहर निकल जाती है

जैसे ही पाखी वहां से जाती है कि विराट सई की तरफ देखता है सई को देखकर विराट कहता है मैं तुम्हारे पास हूं सई प्लीज तुम मत रोओ और फिर विराट सई का हाथ पकड़ता है और कहता है सई मैं तुम्हें रोते हुए नहीं देख सकता इधर पुलकित सम्राट से कहता है मैंने बहुत बड़ी साइकैटरिस्ट से बात कर ली है और वो आज ही सही से मिलने आ रही है लेकिन तब तक मैं ये नहीं चाहता कि सई की आस पास कोई ऐसा इंसान रहे

जिससे कि सई की हालत बिगड़ जाए इसलिए मैं तुमसे रिक्वेस्ट करता हूं सम्राट की पत्रलेखा को इस हॉस्पिटल से लेकर अपने घर चले जाओ प्लीज पत्रलेखा गुस्से में जैसे ही पुलकित से कुछ बोलने वाली होती है कि सम्राट पत्रलेखा से कहता है बस पत्रलेखा बस और सम्राट पत्रलेखा के हाथ को जोर से पकड़ लेता है पत्रलेखा चुप हो जाती है और फिर सम्राट पत्रलेखा का हाथ पकड़ता है और हॉस्पिटल से बाहर निकलता है इधर निनाद दादा कहते हैं कि

ओमी हम सब लोग सई से मिलने हॉस्पिटल गए थे लेकिन ना तो तुम्हारी बीवी वहां गई और ना तो तुम्हारी बहू आई मैं जान सकता हूं कि तुम लोग ये सब क्यों कर रहे हो ओमी काका कहते हैं दादा आप शायद भूल रहे हैं हॉस्पिटल में सई बीमार है कोई प्राइम मिनिस्टर बीमार नहीं है जो वहां पर हाजिरी लगाने के लिए हर किसी को जाना जरूरी है निनाद दादा कहते हैं अगर इतनी बदतमीजी से मुझसे बात करनी है ना तो मेरा खाना तो हो गया मैं तो जा रहा हूं तभी सोनाली चाची कहती है क्या गलत कह रहे हैं

ओमी सही तो कह रहे हैं अरे इतनी जल्दी तो साल का मौसम भी नहीं बदलता है जितनी जल्दी आप लोग बदल गए हैं क्या मैं जान सकती हूं कि ऐसा सई ने क्या कर दिया जो आप लोगों में इतना जबरदस्त बदलाव आ गया है भवानी काकू कहती हैं आज भी मैं वही हूं जो पहले थी मैंने सिर्फ अपने अंदर कुछ सुधार किया है मैं सई की अच्छाइयों को अपना चुकी हूं और ये बात तुम्हें कहां समझ में आएगी सोनाली तुम तो बहुत छोटी सोच रखती हो खैर मेरा खाना भी हो गया है

मैं अब और यहां बैठ नहीं सकती मैं जा रही हूं तभी ओमी काका कहते हैं देखो तो इन लोगों के तेवर भगवान करे कि सई कभी वापस लौट के ना आए और हमेशा से इस घर से दूर चली जाए वहीं दूसरी और हॉस्पिटल में सई की सेवा करते करते कब विराट की आग लग जाती है विराट को पता नहीं चलता तभी सई अपने बेड से उतरती है और विराट के पास जाकर कहती है विराट सर ये क्या हुलिया बना रखा है आपने अपनी शक्ल देखी है आईने में आप तो ऐसे बैठे हैं जैसे कोई मर गया हो

अरे मैं आपके सामने खड़ी हूं और एक तो मैं आपसे बात करने की कोशिश कर रही हूं और आप हैं कि आंख बंद करके सोने में लगे हैं विराट चौक करता है और जोर से चिल्लाता है सई तभी वो देखता है कि सई अपने बेड पर ही सोई हुई थी है और ये उसका सिर्फ और सिर्फ एक सपना था सई तो अभी भी आंख बंद करके सोई हुई है जैसे ही सुबह होती है विराट सबसे पहले सई को जूस पिलाता है

तभी पीछे से डॉक्टर पुलकित साइकैटरिस्ट को लेकर अंदर आते हैं और कहते हैं अरे वाह सई तुम तो बहुत अच्छी लग रही हो तुम्हारे रिपोर्ट्स में बहुत अच्छे आए हैं मुझे बहुत खुशी हुई है कि तुम्हारी कंडीशन में अब सुधार हो रही है देखो मैं तुम्हारे लिए अपने साथ एक साइकैटरिस्ट को लेकर आया हूं फिर वो विराट से कहते हैं विराट हम दोनों को बाहर चलना होगा लेकिन जैसे विराट उठने की कोशिश करता है सई विराट का हाथ पकड़ लेते हैं सई विराट को जाने ही नहीं देती तभी साइकैटरिस्ट देख लेती है

और कहती है कोई बात नहीं इट्स ओके अगर सई आपके सामने कुछ बात करना चाहती है तो मैं चाहती हूं कि आप इसी रूम में रहे साइकैटरिस्ट सई के बगल में बैठती है तो कहती है बेटा मुझे पता है कि आप ने एक बच्चे को बचाने में अपनी जान को जोखिम में डाल दिया था तुम बहुत ही स्ट्रांग लड़की हो पर मैं ये नहीं समझ पा रही हूं कि तुम बोलना क्यों नहीं चाहती क्या वजह है तुम्हारी चुप्पी साधने का मैं जानती हूं कि

तुम ने अपनी जिंदगी में बहुत उतार-चढ़ाव देखे हैं पहले अपने बाबा को खो दिया फिर जबरदस्ती शादी हुई और फिर ससुराल में अनबन का जो माहौल रहता है उससे तुम्हें बहुत टेंशन हो रही है लेकिन बेटा अगर तुम बोलोगी नहीं तो हमें पता कैसे चलेगा तुम तो बहुत स्ट्रांग बच्ची हो ना अगर नहीं बोलना चाहती कोई बात नहीं रोक अपनी बात बोल दो सई अपने हाथ को आंखों पर रखकर जोर जोर से रोने लगती है तभी विराट और पुलकित मौका देखकर रूम से बाहर चले जाते हैं साइकैटरिस्ट एक पैन निकालती है

और डायरी और कहती है लो बेटा अगर तू मुंह से कहना नहीं चाहती है कुछ भी तो कोई बात नहीं पर कम से कम लिख कर तो बता सकती हो ना सबसे पहले सही पेन से भी लिखती है साइकैटरिस्ट समझ जाती है कि बीते विराट किशोर पर फिर आज का एपिसोड का दि एंड वहीं पर हो जाता है वही कल के एपिसोड में आप सभी देखेंगे कि सेक्रेटरी सई से साफ-साफ पूछेगी कि

क्या तुम चाहती हो कि तुम्हारी जिंदगी में विराट आए या तुम्हारी जिंदगी से हमेशा के लिए दूर हो जाए इधर सम्राट पत्रलेखा को बहुत डांटता है और कहता है कि तुम्हें क्या लगता है मुझे कुछ समझ में नहीं आता या पता नहीं चलता सच तो ये है पत्रलेखा कि तुम आज ही विराट से प्यार करती हो तुम जो कुछ भी कर रही हो ना सिर्फ और सिर्फ विराट के लिए कर रही हो और बेहतर होगा कि तुम खुद इस बात को कबूल करो ये सब देखेंगे हम कल के एपिसोड में

Leave a Reply