You are currently viewing Anupama 11th October 2021 Written Update | Anupama 11th October 2021 Today full episode Written Update
Anupama 11th October 2021 Written Update

Anupama 11th October 2021 Written Update | Anupama 11th October 2021 Today full episode Written Update

Anupama 11th October 2021 Written Update | Anupama 11th October 2021 Today full episode Written Update | Anupama 11 October 2021 Today Full Episode Twist | Anupama 11th October 2021 Written Update | Anupama 11th October 2021 Written Update In Hindi

Watch Now On Hotstar Anupama

Anupama 11th October 2021 Written Update सीरियल अनुपमा के आज के एपिसोड में आप सभी देखेंगे की अनुज काव्या से कहता है मिसेज साह ये डिसीजन लेने से पहले आपको अगर जितना सोचने का टाइम चाहिए आप ले सकती हैं लेकिन काव्या अनुज से कहती है कि मैंने सोच लिया है मैं आपको यकीन दिलाती हूं कि वनराज की वजह से मेरे काम पर कोई बाधा नहीं आएगा अनुज कहता है यह अच्छा होगा आपके लिए भी और मिस्टर शाह के लिए भी क्योंकि अब उसे याद रखना चाहिए कि भूमि पूजन के दिन उससे अनुज से मिला था

लेकिन अब अगर मेरे ऑफिस में आकर उसने कोई तमाशा किया तो उसके सामने अनुज नहीं बल्कि अनुज कपाड़िया होगा तभी काव्या कहती है ओके अनुज मैं इस बात को याद रखूंगी इतने में अनुज काव्या से कहता है अनुज नहीं सर आप मुझे ऑफिस में सर करके बुला लेंगे क्योंकि मैं अपने दोस्त अपने नजदीकी और अपने पार्टनर के लिए सिर्फ अनुज हूं और बाकी स्टाफ के लिए मैं सर हूं इसलिए आप मुझे क्या कह कर बुलायेंगे तभी काव्या कहती है सर और काव्या अनुज को थैंक्स बोलती है

तभी अनुज काव्या से कहता है आप मुझे थैंक्स मत बोलिए अगर आप को थैंक्स बोलना है तो अनुपमा से जाकर बोलिए क्योंकि उसे की वजह से आपको आज नौकरी मिली है। वही घर में लीला किचन की तरफ आती है तभी उसे किचन से कुछ बनाने की खुशबू आती है तभी लीला कहती है जरूर किचन में कुछ बन रहा है लेकिन बना कौन रहा है घर में तो कोई भी नहीं है जाकर देखती हूं और जब लीला किचन में जाती है तभी लीला देखती है कि स्वीटी किचन में केक बना रही होती है

तभी लीला स्वीटी से बोलती है कि क्या हुआ तू आज किचन का रास्ता कैसे भुल आई तू भूल गई कि ये किचन है तभी पाखी कहती है बा आप मजाक कर रही है क्या ये मजाक था तभी लीला कहती है हां पाखी कहती आई डोंट लाइक जोक्स तभी लीला कहती है बट आई डोंट लाइक यू और फिर दोनों हंसने लगते हैं उसके बाद लीला पाखी से बोलती है तू क्या बना रही है पाखी कहती है बा में केक बना रही हूं तभी लीला कहती है तू और केक वैसे तो तू बर्फ जमाने में भी रेसिपी पूछती है

और आज केक कैसे बना रही है तभी पाखी कहती है कि बा मम्मी बाहर काम में बिजी है और पापा बहुत ज्यादा टेंशन में है इसलिए मैंने उन्हें खुश करने के लिए केक बनाने का फैसला लिया है वैसे तो सभी कहते हैं कि बच्चे सेल्फिश होते हैं लेकिन हां बच्चे सेल्फिश होते हैं पर उसने नहीं जो उनके पेरेंट्स परेशान होते हैं तो बच्चों को भी टेंशन होती है और बा मैं कोशिश करूंगी कि मैं अपने मम्मी पापा दोनों के चेहरे पर मुस्कान ले कर आ पाऊं बा में इसने कामयाब तो होंउगी ना तभी लीला कहती है

हां बेटा तू जरूर कामयाब होगी और वहीं दूसरी और ऑफिस में अनुपमा बैठी होती है तभी काव्या अनुपमा के पास जाती है और अनुपमा को थैंक्स बोलती है। तभी अनुपमा कहती है मुझे नहीं तुम्हें अनुज को थैंक्स बोलने चाहिए तभी काव्य कहती है कि अनुज ने तुम्हें थैंक्स बोलने को कहा है क्योंकि तुम्हें की वजह से आज मुझे जॉब मिला है और काव्य अनुपमा से पूछती है कि तुम्हें मुझे नौकरी देने से पहले एक बार भी ये ख्याल नहीं आया कि मैंने तुम्हारे साथ कितना बुरा किया है तुमने ये सब बिना सोचे ही मुझे जवाब दे दिया तभी अनुपमा काव्या से कहती है

कि मैंने सोचा बहुत सोचा लेकिन ना हीं हमारी दोस्ती हो सकती है और ना ही हम दोस्त बनने की सोच सकते हैं और तुमने जो मेरे साथ किया वह मैं कभी भूल नहीं सकती हूं तुम्हें नौकरी देने से पहले मुझे मेरा हक छीनने का याद आ गया किस तरह से मेरा हक छीना गया था और जब हक छीना जाता है तो कितना बुरा लगता है ये मैं अच्छी तरीके से जानती हूं और पता है जब तुम कुछ गलत करोगी और मुझे तुम पर गुस्सा आएगा तो मैं क्या याद करूंगी

मैं याद करूंगी कि जब तुम मिस्टर साल की दोस्त बनकर हमारे घर आया करती थी और जब तक मुझे तुम दोनों की सच्चाई नहीं पता चली थी तब तक तुम मेरे से बहुत अच्छी तरीके से बात करती थी एक औरत से दूसरी औरत को कैसे बात करनी चाहिए वैसे ही बात करती थी और यहां तक कि तुमने एक बार मेरे लिए सबसे लड़ाई भी कर लिया था मैं उन सारी बातों को याद करूंगी लेकिन हां यहां पर मैंने बहुत सारी औरतों का सपना पूरा करने का सोचा है

इसलिए कभी कुछ गलत मत करना काव्या कभी भी कुछ गलत मत करना और फिर काव्या और अनूपमा एक दूसरे से हाथ मिलाते हैं तभी अनुपमा की काव्या से बात करते हुए देख अनुज को बहुत खुशी होता है और अनुज कहता है हर दिन तुम कितनी वजह देती हो अपने आप पर प्राउड फील कराने का। वहीं दूसरी ओर हसमुक लीला को बताते हैं कि वनराज ने शेफ को निकाल दिया। तभी लीला कहती है जरूर उसने कैसे का चौमिन चुड़ाया होगा

तभी हंसराज कहते हैं कि वो शेफ है कोई चिंदी चोर नहीं जो चौमिन चुरायेगा तुम शायद भूल रही हो लीला कि उसी की वजह से पूरा कैफे चलता है और धनराज ने उसी को निकाल दिया आखिर वनराज को हो क्या गया है तबीयत लीला कहती है बेचारे को गुस्सा आ गया होगा इसीलिए गुस्से में उसने कुछ कर दिया होगा बाबा जी ने उसे पहले ही बोला था मोती पहनाने को लेकिन आप ही ने मना कर दिया और आज देखो गुस्से में उसने क्या कर दिया और यह जो कुछ हो रहा है ना इसमें भी अनुपमा की ही गलती है

उसी ने मेरे बेटे को परेशान करके रखा है और मेरा बेटा पूरी तरह से परेशान होकर ये सारी हरकतें कर रहा है और फिर वनराज और अनुपमा को लेकर लीला और हंसराज के बीच में भी बहस शुरू हो जाती है वही पाखी अनुपमा और वनराज को सरप्राइस देने के लिए बहुत ज्यादा एक्साइटेड होती है किंजल नंदनी को देखती है तभी नंदनी बहुत ज्यादा परेशान होती है किंजल नंदनी से पूछती है कि क्या वो तुम इतनी परेशान क्यों हो तभी नंदिनी कहती है कि समर डांस कंपटीशन के दौरान एक छोटा सा एक्सीडेंट हो गया

और समर को लगता है कि ये सिर्फ एक एक्सीडेंट नहीं था किंजल कहती है कि तो इसका मतलब इसके पीछे भी रोहन कहा थे तभी नंदनी कहती है नहीं भाभी रोहन को यह भी मालूम नहीं है कि समर दिल्ली में है। और उसके बाद अनुपमा घर आती है तभी ताकि अनुपमा और वनराज को बताती है कि उसने मिड टर्म टेस्ट में टॉप किया है बलराज और अनूपमा बहुत खुश होते हैं और केक खिलाते हैं वही देविका को जब काव्या के बारे में पता चलता है तब देविका अनुज को कहती है यह तुमने क्या कर दिया अनूपमा को तो महान बनने की आदत है

लेकिन तुम तो कम से कम प्रैक्टिकल हो गए सोच सकते थे वही काव्या को देखकर वनराज काव्या से पूछता है कि तुम कहां गई थी तभी वो बताती है कि मैं मिस्टर अनुज कपाड़िया के ऑफिस गई थी जॉब मांगने के लिए। अनुज देविका से कहता है कि वो मैंने इतने सालों से अनूपमा से प्यार किया है और जब मैं प्यार में कुछ गलत नहीं कर सकता हूं तो मैं गुस्से में कोई गलत फैसला कैसे ले सकता हूं वहीं दूसरी ओर बनराज

काव्या पर बहुत ज्यादा गुस्सा हो रहा होता है और काव्या से कहता है तुम ऐसा कैसे कर सकते हो जिस इंसान ने तुम्हारे पति की बेज्जती ही तुमने उसी के सामने भीख मांगा तुम्हें भीख मांगना ही था तो किसी और के सामने जाकर मांगती अनूपमा के सामने तुमने भी क्यों मांगा अरे अनुज कपाड़िया तो अनुपमा के हाथ की कठपुतली है इसमें हां बोल दिया तो उसने भी हां बोल दिया जिसे सुनकर अनूपमा चौक जाती है

और आज के एपिसोड का दी एंड वहीं पर हो जाता है वही कल के एपिसोड में आप सभी देखेंगे की आंखें अनुपमा और बन रहा है खुद लड़ता हुआ देखकर बहुत ज्यादा परेशान हो जाती है और कहती है अगर पेरेंट्स एक दूसरे से परेशान हो जाते हैं तो तलाक ले लेते हैं और अगर बच्चे पैरेंट से परेशान हो जाते हैं तो वो क्या करेंगे तभी ये सब बातें सुनकर अनुपमा वनराज से कहती है

कि हमारे झगड़े की वजह से आज तो तू हमसे दूर रहने चला गया और अब पाखी भी हमसे दूर होती जा रही है कहीं ऐसा ना हो जाए कि एक एक करके हमारा परिवार हमारी वजह से दूर हो जाए

Leave a Reply